कानपुर में बस्ती के लोगों ने टेस्ट देने आए डॉक्टरों को दौड़ाकर पीटा, ये है पूरा मामला

यही नहीं लोगों ने पथराव कर डॉक्टरों के वाहनों में जमकर तोड़फोड़ कर क्षतिग्रस्त कर डाला। पुलिस के पहुंचने पर हमलावर रफूचक्कर हो गए।

By: Arvind Kumar Verma

Published: 13 Sep 2021, 02:16 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
कानपुर. शहर में दूसरे जनपदों से नीट का टेस्ट देने आए कुछ डॉक्टरों ने स्वरूपनगर इलाके में बस्ती के लोगों से विवाद कर दिया। विवाद इतनाबाध गया कि मारपीट होने लगी। इससे गुस्साए बस्ती वासियों ने डॉक्टरों को दौड़ाकर जमकर पीटा। यही नहीं लोगों ने पथराव कर डॉक्टरों के वाहनों में जमकर तोड़फोड़ कर क्षतिग्रस्त कर डाला। पुलिस के पहुंचने पर हमलावर रफूचक्कर हो गए। फिलहाल पुलिस मुकदमा दर्ज करने के बाद हमलावरों की पहचान कर रही है। दरअसल शनिवार को नेशनल एलिजिबिलिटी कम इंट्रेंस टेस्ट (NEET Test) का टेस्ट था। इसमें शामिल होने के लिए हमीरपुर के एक सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (सीएचसी) में तैनात डा.दीपक भी आए थे।

वह जीएसवीएम मेडिकल कालेज के पूर्व छात्र हैं। उनके साथ कुछ और डॉक्टर साथी भी परीक्षा देने आए थे। स्वरूप नगर थाना क्षेत्र में गेस्ट्रो लिवर हास्पिटल के पास स्थित छोटी गुटैया बस्ती के करीब एक रेस्टोरेंट में रात करीब 10 बजे डा. दीपक अपने चार साथियों के साथ पहुंचे। उन्होंने कार बस्ती जाने वाली सड़क पर एक किनारे खड़ी कर दी। इसी बीच बस्ती के किसी स्कूटी सवार युवक से कार खड़ी करने को लेकर डाक्टरों से कहासुनी और हाथापाई हो गई। देखते ही देखते बस्ती के लोग जुट गए और उन्होंने सभी डाक्टरों को पीटना शुरू कर दिया।

उनकी कार भी पथराव करके तोड़ दी। पुलिस आते ही हमलावर भाग निकले। इंस्पेक्टर स्वरूपनगर अश्विनी कुमार पांडेय ने बताया कि बस्ती में पूर्वांचल में रहने वाले मजदूर रहते हैं। कई लोगों को हिरासत में लिया गया, मगर हमलावर पकड़ में नहीं आए। सीसीटीवी फुटेज के आधार पर कार्रवाई की जा रही है। वहीं, मेडिकल कालेज की उप प्राचार्य प्रो. रिचा गिरी ने बताया कि रात में मारपीट की सूचना मिली थी, जिसके बाद उन्होंने डा. यशवंत को मामला देखने को कहा था। डा.दीपक कालेज के पूर्व छात्र हैं। पुलिस कार्रवाई कर रही है।

Arvind Kumar Verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned