हादसे के बाद मुख्यमंत्री ने कमिश्नर-एडीजी को भेजा औरैया

औरैया जिले में एक ट्रक दूसरे ट्रक से टकरा गया, इस भयानक दुर्घटना में 24 श्रमिकों की मौत हो गई है,घटना की जानकारी पर मुख्यमंत्री ने अलाधिकारियों को मौके पर भेजा।

By: Vinod Nigam

Published: 16 May 2020, 09:22 AM IST

औरैया। लॉकडाउन के बीच हाईवे पर इन दिनों दर्द का अंतहीन सिलसिला चल रहा है। रोजी-रोटी के संकट के बीच प्रवासी मजदूर भयानक हालातों में अपने घरों को लौट रहे हैं। मजदूरों के पलायन की चैंकाने वाली तस्वीरें हर दिन सामने आ रही हैं। कुछ ऐसी ही दर्दनाक तस्वहर औरैया के चिहुली गांव में शनिवार की सुबह सामने आई। यहां पर कंटेनर में पीछे से तेज रफ्तार डीसीएम ने टक्कर मार दी और चंद मिनट के अंदर 24 श्रमिक काल के गाल में समा गए। मामले की जानकारी मिलते ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कानपुर जोन के एडीजी और कमिश्नर को तत्काल मौके पर पहुंचने के आदेश दिए। दोनों अधिकारी घटनास्थल पर मौजूद हैं और हादसे के कारणों की जांच कर रिपोर्ट मुख्यमंत्री को देंगे।

गोरखपुर जा रहे थे श्रमिक
लाॅकडाउन के बीच हाईवे पर श्रमिकों की पैदल यात्रा जारी है। सरकार के लाख दावों के बीच श्रमिकों की हाईवे पर पैदल यात्रा जारी है। हालात इतने बदतर हैं कि सामान ढोने वाले ट्रकों में मजदूरों की ढुलाई हो रही है। पलायन कर रहे ज्यादातर मजदूर बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश के रहने वाले हैं। पलायन करने वाले श्रमिकों में अधिकतर पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, महाराष्ट, गुजराज राज्य के हैं। शनिवार को फरीदाबाद से किराए पर एक कंटेनर को श्रमिकों ने बुक करा गोरखपुर के लिए रवाना हुए। औरैया कोतवाली क्षेत्र में कंटेनर में पीछे से डीसीएम ने टक्कर मार दी। 24 श्रमिकों की मौत हो गई तो वहीं 30 से ज्यादा घायल हो गए।

एडीजी ने घायलों का जाना हाल
एडीजी एडीजी जय नारायण सिंह घायलों से हालचाल लेने पहुंचे। ने बताया कि हादसा चिहुली गांव के पासनेशनल हाइवे में सुबह के वक्त हुआ था। फरीदाबाद से कंटेनर में 81 श्रमिक सवार थे। हादसे में 24 श्रमिको की मौत हो गई है तो वहीं 15 घायलों को सैफई मेडिकल काॅलेज रेफर किया गया है, जबकि अन्य का इलाज जिला अस्पताल में चल रहा है। एडीजी ने बताया कि जांच के बाद जो बात सामने निकल कर आ रही है उसके मुताबिक श्रमिकों ने कंटेनर को किराए पर बुक किया था और सभी गोरखपुर जा रहे थे।

चाय के चलते कंटेनर को रोका
स्थानीय लोगों ने बताया कि चालक ने चाय पीने के कारण कंटेनर को हाईवे के किनारे खड़ा कर दिया था। कंटेनर में लाइट नहीं जल रही थी। डीसीएम चालक को कंटेनर नहीं दिखा और इसी के चलते हादसा हो गया। स्थानीय लोगों की मानें तो कंटेनर से कुछ श्रमिक जैसे ही नीचे उतरने का प्रयास किया वैसे ही डीसीएम ने टक्कर मार दी। हादसा इतना भवायह था कि आसपास के गांव के लोग अवाज सुनकर घटनास्थल पर पहुंच गए।

इनकी हुई मौत
हादसे में मरने वालों में राहुल पुत्र विभूति निवासी गोपालपुर थाना पिंडा जोरा झारखंड, नदकिशोर, कनी लाल पिंडा जोरा झारखंड, केदारी यादव पुत्र मुन्ना यादव निवासी बारा चट्टी बिहार, अर्जुन यादव, राजा गोस्वामी, मिलन निवासी पश्चिम बंगाल, गोवर्धन पुत्र गोरांगो, अजीत पुत्र अमित निवासी पशिम बंगाल, चन्दन राजभर, नकुल महतो, सत्येंद्र निवासी बिहार, गनेश निवासी पुरुलिया पश्चिम बंगाल, उत्तम, सुधीर निवासी गोपालपुर, डॉक्टर मेहती, मुकेश, सोमनाथ गोस्वामी आदि शामिल हैं।

Show More
Vinod Nigam
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned