संक्रमित मरीज से दूर रहकर इलाज कर सकेंगे डॉक्टर, रोबोट पहुंचाएगा दवाइयां

कक्षा 11 के एक छात्र का कमाल, मरीजों तक सामान पहुंचाने को बनाया रोबोट
विज्ञान भारती की नवाचार भारती प्रतियोगिता में आयी पहली इंट्री की रही चर्चा

कानपुर। कोरोना वायरस के खतरे में रहकर मरीजों का इलाज करने वाले डॉक्टरों की सुरक्षा अब और आसान होगी। डॉक्टर और पैरामेडिकल स्टॉफ को अब दवाइयां, नाश्ता और भोजन देने के लिए कोरोना संक्रमित मरीज के पास जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। बल्कि एक रोबोट के जरिए यह काम आसान हो जाएगा। इससे चिकित्सीय स्टाफ संक्रमित मरीज से दूर रहकर खुद को सुरक्षित रख पाएगा।

कक्षा ११ के छात्र ने किया कमाल
यह कमाल कर दिखाया है कक्षा ११ के एक छात्र ने। उसने ऐसा रोबोट बनाया है, जिसके माध्यम से आप संक्रमित मरीज तक दवा, पानी या खाना आदि रिमोट के माध्यम से पहुंचा सकते हैं। इसमें भरपूर तकनीक का उपयोग किया गया है। यह रोबोटनुमा डिवाइस कोरोना से लडऩे में मददगार हो सकती है। इसे आसानी से सेनेटाइज कर बार-बार सामग्री मरीजों तक पहुंचाने के लिए इस्तेमाल में लाया जा सकता है।

नवाचार प्रतियोगिता में किया गया पेश
कोरोना जैसे खतरनाक वायरस से लडऩे के लिए विज्ञान भारती ने नवाचार प्रतियोगिता की शुरुआत की तो पहली ही इंट्री ऐसी आई जिससे कोरोना संक्रमित मरीजों तक दूर बैठे सभी सामग्री पहुंचाना आसान हो सकता है। विज्ञान भारती की नगर इकाई ने एक कंपनी की मदद से इस प्रतियोगिता की शुरुआत की है। इसे कोरोना से लडऩे के लिए नवाचार प्रतियोगिता का नाम दिया गया है। जिनकी अच्छी इंट्री होगी, उन्हें आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस की ओर से मुफ्त में कोर्स कराया जाएगा। बेस्ट इंट्री को उपहार के साथ मुफ्त में पेटेंट भी कराया जा सकता है।

०३ मई तक चलेगी प्रतियोगिता
संयोजक कौस्तुभ ओमर ने बताया कि 03 मई तक चलने वाली इस प्रतियोगिता में जो पहली इंट्री आई है वह नवाचार से युक्त है। प्रतिभागियों से वीडियो मंगाए गए हैं ताकि इंट्री को बेहतर ढंग से समझा जा सके। इस प्रतियोगिता का रिजल्ट 10 मई को विज्ञान भारती के कानपुर प्रांत के फेसबुक पेज पर घोषित होगा।

Corona virus
Show More
आलोक पाण्डेय Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned