सेना के जवान से ऑनलाइन रिश्वत लेने में नपे कानपुर रेलवे पुलिस के दो सिपाही, होंगे बर्खास्त

सेना के जवान से ऑनलाइन रिश्वत लेने में नपे कानपुर रेलवे पुलिस के दो सिपाही, होंगे बर्खास्त

Alok Pandey | Updated: 14 Jul 2019, 12:42:34 PM (IST) Kanpur, Kanpur, Uttar Pradesh, India

आरपीएफ डीजी ने शिकायत मिलने पर दोनों को किया सस्पेंड
जांच कानपुर सेंट्रल स्टेशन के सहायक सुरक्षा आयुक्त को मिली

कानपुर। शहर में तैनात रेलवे पुलिस के दो जवानों ने बेखौफ होकर रिश्वत वसूली और अपने ही पैरों पर कुल्हाड़ी मार ली। मामला सेना के जवान से जुड़ा होने के कारण रेलवे अफसरों ने कार्रवाई में कोई देरी नहीं की। दोनों के खिलाफ जांच शुरू की गई है। अब दोनों की नौकरी पर तलवार लटक रही है। माना जा रहा है कि जांच पूरी होने के बाद दोनों को नौकरी से बर्खास्त कर दिया जाएगा।

दिल्ली में की वसूली
बताया जाता है कि बीएसएफ जवान देवराम थापा दिल्ली में तैनात है और अपनी गर्भवती पत्नी को १२४२४ डिब्रूगढ़ राजधानी एक्सप्रेस से न्यू जलपाईगुड़ी स्थित अपने घर ले जा रहा था। स्टेशन पर आते ही ट्रेन चल पड़ी तो थापा ने ट्रेन में चढ़कर चेन खींच दी, ताकि गर्भवती पत्नी को भी चढ़ा सके। ट्रेन रुकने पर दोनों चढ़ गए पर यह देख कानपुर अनवरगंज के दो आरपीएफ सिपाही उनके पीछे पड़ गए। आरपीएफ सिपाहियों ने चेनपुलिंग में रिपोर्ट दर्ज कराने की धमकी देकर उनसे दस हजार रुपए वसूल लिए।

पेटीएम से रकम लेने में फंसे
जब सिपाहियों ने जवान से 10 हजार रुपए रिश्वत मांगी तो देवराम ने 7 हजार रुपए कैश होने की बात ही और बाकी रकम 3 हजार रुपए पेटीएम से भुगतान की बात कही तो दोनों सहमत हो गए। सात हजार रुपए कैश लेकर बाकी के 3 हजार सिपाही आशीष के बैंक खाते में पेटीएम के जरिए ट्रांसफर कर दिए। मगर पेटीएम द्वारा की गई मनी ट्रांसफर डिटेल सिपाहियों के खिलाफ थापा का हथियार बन गई।

आरपीएफ डीजी को भेजी डिटेल
देवराम थापा ने कोच कंडक्टर और आरपीएफ डीजी को पेटीएम डिटेल के साथ ट्वीट कर दिया। जिसके बाद डीजी ने इलाहाबाद रेलवे स्टेशन के कमांडेंट से जांच कर एक दिन में रिपोर्ट मांगी। डिटेल के आधार पर साफ हो गया कि बीएसएफ जवान ने 3 हजार रुपए सिपाही आशीष चौहान के खाते में ट्रांसफर किए थे। इसकी पुष्टि के बाद दोनों सिपाहियों को निलंबित कर दिया गया।

बर्खास्तगी लगभग तय
घूसकांड में घिरने के बाद सिपाही आशीष चौहान और रामनयन यादव की बर्खास्तगी तय मानी जा रही है। सूत्रों का कहना है कि दोनों सिपाहियों को आरपीएफ के डीजी ने बर्खास्तगी का फरमान तो जारी कर दिया है पर शनिवार और रविवार अवकाश होने की वजह से स्टेट बैंक से पैसा ट्रांसफर होने का सत्यापित दस्तावेज नहीं निकल सका। माना जा रहा है कि इसके बाद दोनों सिपाहियों के खिलाफ बड़ी कर्रवाई हो सकती है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned