जज प्रतिभा गौतम हत्याकांड में आरोपी के माता-पिता ने किया सरेंडर, कोर्ट ने फैसला रखा सुरक्षित

जज प्रतिभा गौतम हत्याकांड में आरोपी के माता-पिता ने किया सरेंडर, कोर्ट ने फैसला रखा सुरक्षित
Pratibha Gautam murder case

Shatrudhan Gupta | Updated: 24 Oct 2017, 05:30:57 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

पुलिस ने इस हत्याकांड में मुख्य आरोपी मनु अभिषेक और सह अभियुक्त इसके माता-पिता को बनाया था।

कानपुर. पिछले साल कानपुर देहात में तैनात महिला जज की चाकुओं से गोदकर निर्मम हत्या कर दी गई थी। पुलिस ने इस हत्याकांड में मुख्य आरोपी मनु अभिषेक और सह अभियुक्त इसके माता-पिता को बनाया था। मनु को पुलिस ने अरेस्ट कर जेल भेज दिया था, वहीं अन्य आरोपी फरार चल रहे थे। इनके खिलाफ कोर्ट ने गैर जमानती वारंट जारी करने के साथ ही कुर्की के आदेश दिए थे। पुलिस से बचने के लिए इन्होंने सुप्रीम कोर्ट की शरण ली। सुप्रीम कोर्ट ने दंपती को कानपुर कोर्ट में सरेंडर होने के आदेश दिए, जिसके बाद मंगलवार को दोनों आरोपी सीएमएम कोर्ट में पेश हुए। सीएमएम कोर्ट ने बचाव पक्ष की दलील सुनने के बाद फैसला सुरक्षित रख लिया है।

साक्ष्य छिपाने के आरोप में माता-पिता के खिलाफ मुकदमा

कानपुर देहात में तैनात महिला जज प्रतिभा गौतम कानपुर में अपने घर में मृत अवस्था में पाई गई थीं। प्रतिभा गौतम की निर्मम हत्या उन्हंी के घर में की गई थी। पुलिस की शुरुवाती जांच में प्रतिभा के पति मनु अभिषेक को दोषी पाया गया था और उसे अरेस्ट कर जेल भेज दिया गया था। पुलिस की एफआईआर में आरोपी मनु अभिषेक के साथ-साथ उसके माता पिता सुरेश चंद्र राजन वा नीरू राजन को साक्ष्य छुपाने का दोषी पाया गया था, लेकिन तब से यह लोग फरार चल रहे थे। कोर्ट में हाजिर ना होने के कारण दोनों के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया गया था। गैर जमानती वारंट जारी होने के बाद दोनों पति-पत्नी सुप्रीम कोर्ट की शरण में चले गए। सुप्रीम कोर्ट ने पति-पत्नी को कोर्ट में हाजिर होने का आदेश जारी किया था, जिसके बाद दोनों मंगलवार को कानपुर सीएमएम कोर्ट में हाजिर हुए। बचाव पक्ष के वकील की दलील सुनने के बाद सीएमएम कोर्ट ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया है।

चाकुओं से गोदकर की गई थी हत्या

9 अक्टूबर 2016 को चकेरी स्थित सरकारी अवास पर जज प्रतिभा गौतम की लाश पुलिस ने बरामद की थी। 10 अक्टूबर को इस मामले का खुलासा किया गया। सारे सबूत और कंडिशन के हिसाब से महिला की हत्या उनके पति मनु अभिषेक रंजन ने ही की है। प्रतिभा की पीएम रिपोर्ट में शरीर पर रॉड से पीटने के 16 निशान पाए गए हैं, जबकि दोनों कलाई में अलग-अलग 12 निशान पाए गए हैं। पुलिस ने मनु को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। वहीं आरोपी के माता-पिता फरार हो गए। पुलिस ने दोनों की गिरफ्तारी के लिए प्रयास किए तो इन्होंने सुप्रीम कोर्ट से स्टे ले लिया, लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने दोनों को हरहाल में कानपुर कोर्ट में सरेंडर होने का आदेश सुना दिया।

इसलिए किया गया था कत्ल

जज प्रतिभा गौतम की हत्या उन्हीं के अधिवक्ता पति मनु अभिषेक ने की थी। बेटे को बचाने और साक्ष्य मिटाने के आरोप में पुलिस ने आरोपी के माता-पिता के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया था। पुलिस की जांच में ये बात निकल कर सामने आई थी कि प्रतिभा गर्भ से थी, लेकिन पति मनु बच्चा नहीं चाहता था। इसी के चलते दोनों में विवाद हुआ। मनु ने प्रतिभा को व्हाट्सएप पर मैसेज के जरिए कहा था कि तुम गर्भपात करा लो, पर वह नहीं मानी तो उसने उसे रास्ते से हटाने का प्लॉन बना डाला।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned