लॉकडाउन: पहले दिन समझाया और दूसरे दिन डंडा उठाया, मनमानी करने वालों पर सख्त हुई पुलिस

कोरोना के खतरे का मजाक बनाने वालों को पुलिस ने सिखाया सबक

बाजार में भीड़ बढऩे पर बंद कराई गईं दुकानें, खाली हाथ लौटे खरीदार

कानपुर। मंगलवार को शहर में लॉकडाउन के दूसरे दिन पुलिस को सख्ती करनी पड़ी। इससे पहले सोमवार को दिन भर लोग घरों में रहे पर शाम होते ही बाहर निकल पड़े। चौराहों पर तैनात पुलिस ने उन्हें समझाबुझाकर वापस घर भेजा था और केवल बहुत जरूरी होने पर ही जाने दिया गया। पर मंगलवार को नवरात्र के लिए खरीदार निकले तो बाजारों में भीड़ बढऩे लगी। इसी दौरान बाइक और कार से कई लोग सडक़ों पर निकलते दिखे। पुलिस ने उन्हें बीच रास्ते में रोक-रोककर वापस जाने को कहा। इस दौरान पैदल टहल रहे लोगों को टोका गया पर उन्होंने एक न सुनी। जिस कारण पुलिस को उन पर लाठियां भांजनी पड़ी। लाठी चलते देख लोग वापस घरों में घुस गए।

मार्निंग वॉकरों को वापस भेजा
सुबह छह बजे मोतीझील के पास कुछ मार्निंग वॉकर निकले तो उन्हें वापस भेज दिया गया। दोपहर में लोग व्रत के लिए भी खरीदारी करते नजर आए। फल और पूजा आदि का सामान खरीदा। काँलोनियों में पार्कों में सुबह सावधानी बरतते हुए चहलकदमी की। कुछ दुकानों को पुलिस कर्मियों ने बंद कराया। पेट्रोल पंप खुले। दूध और अन्य आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति रही। कानपुर के डीएम ब्रह्मदेवराम तिवारी ने इस संबंध में कड़े निर्देश जारी करते हुए कहा है कि लॉकडाउन के बावजूद सडक़ों पर भीड़ आ रही है। यह बहुत गंभीर है। लोगों को सचेत होने की जरूरत है। लॉक डाउन के दौरान घर से निकलने वालों पर अब सख्ती की जाएगी।

खरीदारी का समय तय किया गया
लॉकडाउन के पहले दिन सोमवार को लोगों ने जनता कर्फ्यू जैसी गंभीरता नहीं दिखाई। जिला प्रशासन ने बेफिक्र लोगों पर सख्त रुख अपनाने की तैयारी की है। अगले दो दिन तक लॉकडाउन के दौरन सब्जी, दूध व जरूरी सामान अब सुबह 6 बजे से 11 बजे तक ही मिलेगा। बैंक में सुबह 8 से 11 तक ही काम होगा। उन्होंने कहा कि रसोई गैस की किल्लत नहीं है। सभी आवश्यक वस्तुओं की पर्याप्त मात्रा में है। रसोईगैस एजेंसी भी भीड़ लगाने की जरूरत नहीं है। ऑनलाइन बुंकिग कराएं। गोदाम में भी भीड़ न लगाए। एजेंसियों को बुकिंग पर जल्द डिलीवरी करने का आदेश दिए गए हैं।

ठेले वालों को मिलेगी छूट
उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि जिन शहरों को लॉक डाउन किया गया है। वहां सप्लाई चेन को व्यवस्थित करें। जिससे लोगों को कोई दिक्कत न हो। इसके लिए मंडी परिषद फलों और सब्जी बेचने वालों को चिन्हित कर मोहल्लों और कॉलोनियों में भेजें। इसके साथ ही ध्यान रखें कि लोगों की भीड़ न लगे, ज्यादा दाम पर बिक्री न की जाए और लोग जमाखोरी न करने पाएं। दूध की भी आपूर्ति की जाए। सीएम ने कहा कि किसी भी जनपद में बिजली और पानी की व्यवस्था में भी कोई दिक्कत नहीं आनी चाहिए।

Show More
आलोक पाण्डेय
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned