शहर के इस जाम से जल्द मिलेगी निजात, बाईपास को लेकर तैयारी शुरू, सुकून से कर सकेंगे सफर

सर्वे में पाया गया कि यदि साढ़े 9 किलोमीटर लंबा बाईपास बनेगा तो शहर में जाम की समस्या समाप्त हो जाएगी।

By: Arvind Kumar Verma

Updated: 14 Sep 2020, 07:35 PM IST

कानपुर-प्रदेश की औद्योगिक नगरी कानपुर की व्यस्तता कौन नहीं जानता है। साथ ही शहर के जाम से कोई भी अनभिज्ञ नहीं है। इसके चलते अब कानपुर मंडलायुक्त ने जाम से निजात दिलाने के लिए वीणा उठाया है। जिले के व्यस्ततम रोड मंधना से रामादेवी तक जीटी रोड पर लगने वाले जाम से निजात दिलाने के लिए प्रयास शुरू होंगे। इसके लिए अब मंधना से भौंती तक साढ़े नौ किलोमीटर का बाईपास जाम की समस्या से छुटकारा दिलाएगा। मंधना जीटी रोड को बाईपास के द्वारा इटावा- प्रयागराज और कानपुर- झांसी हाईवे से जोड़ा जाएगा। यह पहल 2014 में हुई थी, जो अब जरूरत बन गई है। दरअसल शहरी क्षेत्र में जीटी रोड पर यातायात का लोड अधिक है।

इस मार्ग पर अधिक वाहन गुजरने से लगने वाले जाम को देखते हुए समग्र विकास समिति की बैठक में तत्कालीन समन्वयक नीरज श्रीवास्तव ने भौंती-मंधना बाईपास के निर्माण का प्रस्ताव दिया था। उस प्रस्ताव को गंभीरता से लेते हुए तत्कालीन मंडलायुक्त ने लोक निर्माण विभाग से सर्वे कराया था। सर्वे में पाया गया कि यदि साढ़े 9 किलोमीटर लंबा बाईपास बनेगा तो शहर में जाम की समस्या समाप्त हो जाएगी। इधर कानपुर से अलीगढ़ जीटी रोड चौड़ीकरण का कार्य शुरू हुआ है तो फिर से इस बाईपास को लेकर चर्चा गरमा गई है। अब समिति के अध्यक्ष एवं मंडलायुक्त की तरफ से यह प्रस्ताव एनएचएआइ को भेजा जाएगा।

बताया गया कि 2014 में 30 मीटर चौड़े फोरलेन बाईपास की लागत 367 करोड़ 82 लाख रुपये आंकी गई थी। पहले केडीए से काम कराने की योजना बनी, लेकिन केडीए ने मना किया तो भारत माला परियोजना से निर्माण का प्रस्ताव एनएचएआइ मुख्यालय को भेजा गया, लेकिन डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट को बने 6 साल से अधिक समय बीत गया पर बात आगे नहीं बढ़ी। अब निर्माण की लागत के साथ ही जमीन की कीमत भी बढ़ गई है। ऐसे में यह माना जा रहा है कि बाईपास का निर्माण करने में करीब साढ़े चार सौ करोड़ रुपये खर्च होगा।

28 अगस्त को मंडलायुक्त की अध्यक्षता में हुई समिति की बैठक में इस प्रोजेक्ट को आगे बढ़ने की बात हुई। अब एक प्रस्ताव फिर एनएचएआइ मुख्यालय को समिति की ओर से भेजने की तैयारी है। मंडलायुक्त डॉ सुधीर एम बोबडे ने बताया कि बाईपास के निर्माण का प्रस्ताव एनएचएआइ को भेजा जा रहा हैं। प्रोजेक्ट जीटी रोड पर जाम को ख़तम करने के लिए यह काफी महत्वपूर्ण है। पत्र भेजने के साथ ही एनएचआइ के उच्चाधिकारियों से भी बात करूंगा।

Arvind Kumar Verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned