सपा नेत्री ने कहा टिकट मिला तो साध्वी के खिलाफ चुनाव लड़ने को तैयार

सपा प्रवक्ता वंदना सिंह ने फतेहपुर से लोकसभा चुनाव लड़ने की जताई इच्छा, टिकट के लिए करेंगी मांग, साध्वी को हराना मकसद।

By: Vinod Nigam

Published: 30 Dec 2018, 09:10 AM IST

कानपुर। पिछले साढ़े चार साल के कार्यकाल के दौरान केंद्रीय मंत्री व बीजेपी से सांसद साध्वी निरंजन ज्योति ने अपने संसदीय क्षेत्र में एक पैसे का विकास कार्य नहीं कराया। अपने सांसद के सौतेले रवैए के चलते दोआब का ये जिला दर्द से कराह रहा है। बीजेपी के मंत्री, विधायक, कार्यकर्ता व नौकरशाह मिलकर जतना के पैसे का बंदरबांट कर रहे हैं। गरीबों का राशन मंत्री साध्वी के भंडारे में भेजा जाता है तो नहरों में पानी नहीं आने के चलते गेहूं सहित अन्य फसल बर्बाद हो रही है। पर सांसद व सरकार कुम्भ की तैयारी में व्यस्थ है। लेकिन अब जनता 2019 में इन्हें सबक सिखाने के लिए तैयार है। अली- बजरंगी बली के बजाए विकास को वोट देकर यूपी में बीजेपी को उखाड़ फेंकेगी। ये बात समाजवादी पार्टी की राष्ट्रीय प्रवक्ता व पूर्व सीएम अर्जुन सिंह की भतीजी वंदना सिंह ने पत्रिका डॉट कॉम के साथ खास बातचीत के दौरान कही। सपा नेत्री ने कहा कि राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव यदि हमें फतेहपुर से चुनाव के मैदान में उतारते हैं तो ये तय है कि हमारे ननिहाल की आवाम साध्वी निरजंन ज्योति की रवानगी कर देगी।

...तो राजनीति से सन्यास ले लूंगी
समाजवादी पार्टी की राष्ट्रीय प्रवक्ता वंदना सिंह ने केंद्रीय मंत्री निरजंन ज्योति पर जनता के साथ छल का आरोप लगाया। वंदना सिंह ने कहा फतेहपुर जिले की सांसद व मंत्री निरजंन ज्योति अपने संसदीय क्षेत्र के पांच विकास कार्य गिना दे ंतो मैं राजनीति से सन्यास ले लूंगी, नही ंतो वो राजनीति छोड़कर हिमांचल पर्वत पर जाकर जनता के साथ किए छल के पाप को धुलने के लिए तप करें। वंदना सिंह ने बताया कि उनका बचपन फतेहपुर में बीता। थरियांव और पटेल नगर की गलियों से गहरा रिश्ता है। जब ननिहाल जाते हैं तो वहां का दर्द देख आंख से आंसू छलख आते हैं। सांसद व केंद्रीय मंत्री निरंजन ज्योति ने जिले को बदहाल कर दिया। युवा बड़े पैमाने पर दूसरे शहरों में रोजगार के लिए जा रहे हैं। ऐसे नेता भगवा रंग पहनकर जनता से वोट तो ले लेते हैं पर जनप्रतिनिधि बनने के बाद सिर्फ अपनी लोकलुभावनी बातों के जरिए गुमराह करते रहते हैं ।

इन्हें हराना बहुत जरूरी
वंदना सिंह ने कहा कि देश में लोग डर के छाए में रहने को मजबूर हैं। साधू के वस्त्र पहनकर सियासत करने वालों के खिलाफ अब नेताओं को आना होगा। इन्हें जनता के बीच जाकर बेनकाब करने की सख्त जरूरत है। वंदना सिंह ने कहा कि गोकशी के नाम पर लोगों को मारा जा रहा है। बुलंदशहर में एक निर्दोष दरोगा की निर्मम हत्या कर दी जाती है। वहीं योगी सरकार दरोगा के हत्यारों को पकड़ने के बजाए गोकशी का आरोप लगा बेगुनाहगारों को जेल भेज रही है। उन्होंने यह भी बताया कि बुलंदशहर में बवाल कराने वाले मुख्य साजिशकर्ताओं को अभी तक पुलिस पकड़ नहीं सकी। सपा प्रवक्ता ने कहा, विकास की बातें और ’सबका साथ-सबका विकास’ जैसे नारे खोखले हैं और इस सरकार का एजेंडा सांप्रदायिक ध्रुवीकरण और समाज को धर्म के आधार पर बांटना है। पर जनता अब कबिस्तान पर वोट नहीं देने वाली। इसकी शुरूआत तीन राज्यों के विधानसभा चुनाव में हो चुकी है।

सपा-बसपा के बीच गठबंधन
सपा प्रवक्ता ने बताया कि समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव पहले ही गठबंधन की घोषणा कर चुके हैं। साथ बसपा प्रमुख ने भी 2019 का चुनाव साथ में लड़ने की रजामंदी दे दी है। वंदना सिंह ने बताया कि हमें जो जानकारी है, उसके मुताबिक अभी सीटों को लेकर दोनों दलों के बीच बात नहीं हुई। हां जल्द ही दोनो प्रमुख नेता बैठकर सीटों का बंटवारा कर लेंगे। वंदना सिंह ने कहा कि सपा प्रमुख ने यूपी में विकास के रथ घुमाया, लेकिन सीएम योगी आदित्यनाथ हनुमान जी की जाति बता रहे हैं। वंदना सिंह ने कहा कि पंदह माह की योगी सरकार पूरी तरह से फेल साबित हुई है। अब एनडीए के घटक दल भी इनकी तानाशाही के चलते चुनाव से पहले साथ छोड़ रहे हैं। यूपी में सपा व बसपा 80 में 80 सीटों पर जीत दर्ज कर दिल्ली की सरकार में अहम रोल निभाएगी।

 

Show More
Vinod Nigam
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned