आईपीएल के अतिरिक्त ग्राम पंचायत व विदेश के चुनाव पर भी नजर रखते थे सटोरिए

सट्टे को लेकर पुलिस जितना सटोरियों पर नजर रखती है। सटोरिए भी पुलिस की हर हरकत पर उतनी ही नजर बनाए रखते थे।

By: Arvind Kumar Verma

Published: 09 Oct 2020, 01:36 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
कानपुर-सट्टे को लेकर कानपुर पुलिस सक्रिय दिख रही है। जिसके चलते अब सट्टेबाजों में सनसनी फैली हुई है। सट्टे को लेकर पुलिस जितना सटोरियों पर नजर रखती है। सटोरिए भी पुलिस की हर हरकत पर उतनी ही नजर बनाए रखते थे। फिर चाहे वह पुलिस का गुडवर्क हो या प्रेसनोट सब एकत्रित कर लेते थे। और बुकी से लेकर खेलने वालो तक को भेजकर अलर्ट कर देते थे, जिससे पुलिस से सावधान रहा जा सके। वहीं सूत्रों के मुताबिक सट्टे के खेल में पुलिसकर्मी की भी भूमिका रहती थी। इसलिए स्थानीय पुलिस उन पर हांथ नहीं डालती थी।

सटोरियों के मोबाइल से एक ख़ास बात पता चली कि ये सट्टेबाज आईपीएल में सट्टा लगाने के अतिरिक्त ग्राम पंचायतों के चुनाव से लेकर अमेरिका के चुनाव पर भी सट्टा लगाते थे। वहीं डीआईजी के अनुसार मोबाइल कारोबार अशोक कुमार व सौरभ गुप्ता एप के द्वारा सट्टा खिलवाते थे और नसीम वसूली करता था। वहीं एक सटोरिए ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि बुकी की पुलिस से सेटिंग होती है। सट्टे के दौरान जब कोई बड़ी रकम जीत जाता था और बड़ी रकम का भुगतान करना होता था तो बुकी अपने परिचित पुलिस वालों से छापेमारी करा देते हैं।

इसके बाद सामने वालेे से यह कह दिया जाता है कि पुलिस ने छापेमारी की और पैसा भी पकड़ लिया है। इस तरह बहुत से सटोरियों का पैसा बुकी मार देते हैं। वहीं सूत्रों के मुताबिक पुलिस ने दस सटोरियों को उठाया था। जिसमें अधिवक्ता और नेताओं के नाम भी थे। उनकी पैरवी करने वालों ने देर रात हंगामा किया था। जिसके बाद पुलिस ने तीन लोगों को छोड़ दिया था। वहीं डीआईजी का कहना है कि जिनका सट्टे से कोई लेना देना नहीं था, उन्हे छोड़ा गया है।

Show More
Arvind Kumar Verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned