सीएम योगी के राज में मॉब लिचिंग की वारदात, 100 युवकों ने नाबालिग को उतारा मौत के घाट

Vinod Nigam | Publish: Sep, 06 2018 05:57:02 PM (IST) Kanpur, Uttar Pradesh, India

11वीं का छात्र छात्रा से कर रहा था बात, इसी के चलते आरोपियों ने बनाया शिकार, पटक-पटक कर ले ली जान

कानपुर। मां ने अपने इकलौते बेटे के लिए भोजन बनाया तो पिता ने कोंचंग जाने के लिए ऑटो का किराया दिया। बेटा अपने माता-पिता का आर्शीवाद लेकर कोंचग के लिए निकल गया। पढ़ने के बाद अपनी ही क्लास की एक छात्रा के साथ वो बाहर सवालों को जवाब पूछ रहा था। इसी दौरान वहां पर खड़े सैकड़ो युवाओंं की नजर उस पर पड़ गई और उन्होंने ने बिना पूछताछ के किशोर पर टूट पड़े। लड़की ने बीच-बचाव की कोशिश की तो उसे पीटा और एक कमरे के अंदर बंद कर किशोर पर लाठी-डंडे से प्रहार करने लगे और तब तक मारते रहे तब तक उसकी मौत नहीं हो गई। आरोपी शव को मौके पर छोड़कर फरार हो गए। मॉब लिचिंग की खबर मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज जांच शुरू कर दी है।

छात्रा से कर रहा था बात
किदवई नगर थानाक्षेत्र बगाही निवासी अंकित 11वीं का छात्र था और वो यहां एक कोचिंग सेंटर पर केमिस्ट्री की पढ़ाई के लिए आता था। वो कोचिंग पढ़ने के बाद एक छात्रा के साथ क्लास से बाहर आया और सड़क के किनारे उससे कुछ प्रश्नों के उत्तर की जानकारी ले रहा था। इसी दौरान वहां खड़े दर्जनभर युवक आ धमके और अंकित को पीटने लगे। छात्रा सहित स्थानीय लोगों ने बचाने की कोशिश की तो वो उन पर भी टूट पड़े। छात्रा को पीटकर एक कमरे में बंद कर दिया गया और फिर किशोर को तालिबानी सजा देते हुए मौत के घाट उतार दिया गया। स्थानीय लोगों ने बताया कि अंकित के शव को फुटबाल की तरह से उठालते रहे । पुलिस के आने की भनक लगते ही सारे आरोपी मौके से भाग गए।

शव को बना डाला फुटबाल
छात्र के सहपाठियों और प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक कि कोचिंग छूटने के दौरान अंकित दूसरी कोचिंग में पढ़ने वाली एक लड़की से बातचीत करने लगा। यह नजारा लड़की के साथ पढ़ने वाले राजपाल और आदित्य त्रिपाठी नाम के छात्रों ने देखा तो उन्होने अंकित को टोका। इसके बाद कहासुनी बढ़ने पर सौ राजपाल ने फोन कर अन्य युवकों को बुलवाया लिया। राजपाल के साथियों ने अंकित को घेरकर लाठी डण्डो से पीटने लगे। शहर के भीड भाड़ वाले इलाके में भीड़ तन्त्र का नंगनाच चलता रहा और पुलिस तब पहुंची जब अंकित की सॉसे उखड़ चुकी थीं। स्थानीय लोगों ने बताया कि आरोपी अंकित के शव को फुटबाल की तरह उछालते और जमीन पर गिरते ही फिर से पैरों से वार करते। पूरे एक घंटे तक आरोपियों का तांडव जारी रहा पर कोई भी व्यक्ति मासूम को बचाने के लिए नहीं आया।

परिजनों ने लगाया जाम
घटना के बाद मृतक छात्र के परिजनों और स्थानीय लोगों ने जमकर हंगामा किया और सड़क को जाम कर दिया। पुलिस ने किसी तरह से उन्हें समझा कर जाम खुलवाया और इलाके में भारी पुलिस फोर्स तैनात की गयी। मृतक छात्र के मित्र ने बताया कि आरोपी कोचिंग के बाहर खड़े होकर छात्राओं के साथ अक्सर छेड़छाड़ करते हैं। कोंचग संचालक से इसकी शिकायत भी की गई, लेकिन उनके खौफ के चलते उन्होंने पुलिस से शिकायत दर्ज नहीं कराई। वहीं मृतक के पिता ने कहा कि सूचना मिलने ही अगर पुलिस मौके पर पहुंच जाती तो मेरे बेटे की जान बच जाती। ऐसे लापरवाह पुलिसवालों को भी सजा मिलनी चाहिए। पूरे प्रकरण पर एसपी अजित कुमार ने बताया कि मामला दर्ज कर लिया गया है और जल्द ही सभी आरोपियों को अरेस्ट कर जेल भेजा जाएगा।

 

Ad Block is Banned