मस्साब बन डीएम ने छात्रों को दिया सफलता मंत्र, अपनी खुद की जिंदगी से कराया रूबरू


ज्नपद जनपद के 128 परीक्षा केंद्रों में मंगलवार से यूपी बोर्ड की परीक्षा शुरू, पुलिस-प्रशासन ने किए पुख्ता बंदोबस्त, डीएम ने परीक्षार्थियों और उनके अभिभावकों से की अपील।

Vinod Nigam

Updated: 18 Feb 2020, 09:01 AM IST

Kanpur, Kanpur, Uttar Pradesh, India

कानपुर। यूपी बोर्ड की कक्षा दसवीं और बारवीं की परीक्षा मंगलवार को शुरू हो गई। परिक्षा नकल विहीन कराए जाने को लेकर तगड़े बंदोबस्त किए गए हैं। सोमवार की शाम डीएम डॉक्टर ब्रह्म देव राम तिवारी ने परिक्षार्थियों से अपील की है कि फेल-पास होने की चिंता के बजाए निडर होकर परीक्षा दें। यदि पेपर खराब हो जाए तो हार नहीं मानें और आगे की तैयारी बेहतर तरीके से करें। डीएम ने अपनी जिंदगी के एक रहस्य से पर्दा उठाते हुए बताया कि इंटरमीडिएट परीक्षा परिणाम आने के बाद मेरी 2 नंबर कम आने से फस्र्ट डिवीजन रूक गई। माता-पिता ने हौसला बड़ाया और इसी का परिणाम है कि हमनें आईएएस परीक्षा उत्तीर्ण की।

अभिभावकों को दिया मंत्र
यूपी बोर्ड की 10वीं व 12वीं की परीक्षाएं शुरू हो चुकी हैं। नकलि विहीन परीक्षा कराने जाने को लेकर पुलिस-प्रशासन और शिक्षा विभाग कमर कस चुका है। सोमवार की शाम डीएम ने परीक्षा को लेकर बैठक की और फिर मीडिया के जरिए परिक्षार्थियों के अलावा अभिभावकों से अपील की। डीएम ने कहा कि बच्चों पर अनावश्यक दबाव ना डालें। उनकी तैयारियों के हिसाब से उन्हें समझाएं। बच्चों पर तरह का दबाव मत न डालें। डीएम ने कहा कि यदि बेहतर तरीके से तैयारी की होगी तो परिणाम भी अच्छे आएंगे। पेपर खराब होने पर चिंता के बजाए दूसरी की तैयारी करें।

15 मिनट की मिलेगी छूट
डीएम ने ने पुलिस अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि परिक्षार्थियों के साथ आने वाले अभिभावकों की चेकिंग नहीं करें। उन्होंने समस्त 128 परीक्षा केंद्र के प्रभारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि किसी आपात स्थिति में यदि कोई भी बच्चा देरी से आता है तो उसे 15 मिनट की छूट दी जाए। उन्होंने सभी बच्चों से अपील करते हुए कहा कि समय से आधा घंटा पहले अपने परीक्षा केंद्र में पहुंचे। डीएम ने कड़े निर्देश देते हुए कहा कि 10 बजे के बाद डीजे बजता है तो सम्बन्धित के खिलाफ कठोर दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी।

दिब्यांगजनों के लिए छूट
डीएम ने बताया कि दिव्यांगजनों के लिए विशेष व्यवस्था की गई है। दिब्यांग परिक्षार्थी को उनके परिजन कक्ष तक छोड़ने जा सकते हैं। किसी भी परीक्षा केंद्र में साइकिल, बाइक से आने वाले परिक्षार्थी से पार्किंग शुल्क नहीं लिया जाएगा। उन्होंने समस्त 128 परीक्षा केंद्रों में केंद्र प्रभारियों को कड़े निर्देश देते हुए कहा है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश के अनुसार जनपद में परीक्षा नकल विहीन कराई जाएगी। परीक्षा केंद्र की निगरानी सीसीटीवी के जरिए की जा रही है। यदि किसी भी केंद्र में नकल कराने की कोई भी सूचना मिलती है उनके खिलाफ कठोर दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी।

128 केंद्रों में परिक्षा
जनपद में 128 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं।ं हाईस्कूल के 53526 व इंटरमीडिएट के 53543 परिक्षार्थी 2020 की परीक्षा में बैठेंगे। इस बार यूपी बोर्ड परीक्षा केंद्रों के अंदर और बाहर सुरक्षा का ऐसा ‘चक्रव्यूह’ तैयार किया गया है, जिसे भेद पाना न केवल नकल माफियाओं के लिए बल्कि किसी अन्य के लिए भी मुश्किल होगा। केंद्रों में परीक्षा कक्ष और प्रधानाचार्य कक्ष को छोड़कर बाकी सभी कमरे सील किये जाएंगे। . किसी केंद्र पर नकल मिली, तो केंद्र प्रभारी को भी जेल हो सकती है।. परीक्षा को लेकर कंट्रोल रूम भी बना दिए गए हैं। परीक्षा केंद्रों में वॉयस रिकॉर्डिंग वाले सीसीटीवी लगाए गए हैं।

ऐसी रहेगी सुरक्षा-व्यवस्था
डीएम डॉक्टर ब्रह्मदेव राम तिवारी ने बताया कि परीक्षा कक्ष से लेकर केंद्र तक जहां भी सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। उनकी रिकॉर्डिंग को एक सप्ताह तक सुरक्षित रखा जाएगा। किसी प्रकार का इलेक्ट्रॉनिक उपकरण परीक्षा कक्ष में नहीं जाएगा। अध्यापक भी मोबाइल नहीं ले जा सकेंगे। 24 मजिस्ट्रेट की ड्यूटी लगाई गई है। डीएम ने बताया कि 128 परीक्षा केंद्रों की 16 सेक्टर मजिस्ट्रेट, पांच जोनल और तीन सेक्टर मजिस्ट्रेट निगरानी करेंगे। इसके अलावा पांच सचल दल भी परीक्षाओं के दौरान अपनी निगाह रखेंगे।

सीसीटीवी से निगरानी
परीक्षा केंद्रों में लगे सीसीटीवी कैमरों की निगरानी 25 कंप्यूटरों के जरिए की जाएगी। इसका केंद्र जवाहरनगर स्थित ओंकारेश्वर सरस्वती विद्यानिकेतन इंटर कॉलेज को बनाया गया है। इस केंद्र का प्रभारी एडीएम वित्त एवं राजस्व वीरेंद्र पांडेय को बनाया गया है। इसके अलावा परीक्षाओं को लेकर जीआईसी में कंट्रोल रूम बनाया गया है। यहां पर मोबाइल नंबर 9411397780 पर कोई भी परीक्षाओं को लेकर अपनी शिकायत दर्ज करा सकता है। डीएम ने बताया कि परीक्षा केंद्र के प्रभारी को यह बताना होगा कि वह प्रश्नपत्र लेकर किस कर्मचारी को भेज रहे हैं। उसके आने और जाने का समय नोट किया जाएगा।

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned