जनता कर्फ्यू में दुकानों पर नहीं पहुंचा कोई ग्राहक, स्थानीय पुलिस ने किया ये काम, व्यापारी बोले

उन्होंने कहा इस जनता कर्फ्यू का हम ही नहीं पूरा देश समर्थन कर रहा है।

By: Arvind Kumar Verma

Published: 22 Mar 2020, 02:19 PM IST

कानपुर देहात-कोरोना वायरस का खौफ है या देश के प्रधानमंत्री के आवाह्न का प्रभाव। खैर जो भी हो लेकिन जनता कर्फ्यू का लोग बखूबी समर्थन कर रहे हैं। कानपुर देहात के शहर कस्बों की सड़कें, गलियों, रेलवे स्टेशन व बस स्टैंड पर कोई चहल कदमी नहीं दिख रही। वहीं गांव में भी लोग घरों में ही बैठे रहे। देखा जाए तो शहरों के साथ ग्रामीणांचलों में भी पीएम मोदी के इस जनता कर्फ्यू का प्रभाव खासा दिखा। जिनकी दिनचर्या में शामिल मेहनत मजदूरी होती है, ऐसे किसान भी खेतों कि तरफ निहारने तक नहीं गए। यह वायरस का भय है या प्रधानमंत्री के जनता कर्फ्यू का असर है। जनपद के कस्बों में मुख्य मार्ग पर लोगों ने आज सुबह अपनी दुकानें के ताले नहीं खोले। सन्नाटा के सिवाय कुछ नजर नहीं आ रहा है। लोगों ने खुद ब खुद इस कर्फ्यू का पूर्ण समर्थन करते हुए एक भारतीय नागरिक होने का प्रमाण दिया है।

पुलिस कर्मियों ने किया ये काम

सुबह समय घरों में दुकान किए एक दो लोगों ने दुकानें खोलने की कोशिश की तो स्थानीय पुलिस के द्वारा बंद करा दी गई। पुलिस कर्मियों ने आपदा की स्थिति में देश के नागरिकों का सहयोग करने की अपील की। जिसके बाद लोगों ने हामी भरते हुए उनकी बात का समर्थन किया। जिसके बाद पुलिस कर्मियों की टीम ने पूरे झींझक कस्बे में मास्क लगाकर सड़कों पर बंदी का निरीक्षण किया। इस दौरान मास्क पहनकर पुलिस टीम ने पूरे नगर का भ्रमण किया। पुखरायां, शिवली, रसूलाबाद, झींझक सहित कई कस्बों में लोगों की जागरूकता साफ नजर आईं।

स्थानीय दुकानदार बोले कि

झींझक दुकानदार सुशील अग्निहोत्री ने बताया कि देश के प्रधानमंत्री के द्वारा जनता कर्फ्यू का निर्णय बहुत ही सराहनीय है। आज सुबह से ही लोग घरों के अंदर हैं। सड़कों गलियों में इंसानों की चहल कदमी नहीं दिख रही है। दवाखाने की दुकानें सुबह कुछ समय खुली लेकिन बाद में वे भी बन्द कर दी गई। प्रधानमंत्री के द्वारा इन जनता कर्फ्यू से भारत ही नहीं पूरे विश्व को इस कोरोना वायरस के प्रकोप से बचाया जा सकता है। उन्होंने कहा इस जनता कर्फ्यू का हम ही नहीं पूरा देश समर्थन कर रहा है। इसलिए शत प्रतिशत बंदी का असर है।

Arvind Kumar Verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned