तांत्रिक महिला बोली भगवान के आदेश पर ली थी समाधि, बाधा डालने वाले उनका प्रकोप झेलेंगे

तांत्रिक महिला बोली मुझे जगाने वाले उनका प्रकोप जरूर झेलेंगे। प्रभु से मेरे मिलन के बीच आने वालों को माफी नहीं मिलेगी।

By: Arvind Kumar Verma

Published: 12 Feb 2021, 09:04 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

कानपुर-घाटमपुर क्षेत्र के मढ़ा गांव में समाधि खोदकर बाहर निकालने के बाद महिला तांत्रिक, उसके समेत 6 लोगों को एसडीएम कोर्ट ले जाया गया। इस दौरान कोर्ट के बाहर महिला तांत्रिक पत्रकारों से वार्ता करते हुए चिल्लाते हुए बोली भगवान के आदेश पर समाधि ली थी। भगवान उससे प्रेम करते हैं। मेरे भगवान के आदेश को रोकने वालों को देर सवेर सजा जरूर मिलेगी। मेरी समाधि भंग कर दी। मुझे जगाने वाले उनका प्रकोप जरूर झेलेंगे। प्रभु से मेरे मिलन के बीच आने वालों को माफी नहीं मिलेगी। दरअसल सजेती थानाक्षेत्र के मढ़ा गांव में महिला तांत्रिक गोमती ने गड्ढा खुदवाकर 48 घंटे के लिए समाधि ली थी।

महिला ने घरवालों से कहा था कि भगवान शिव ने रात में दर्शन दिए थे। मुझे उनकी आराधना के लिए समाधि लेनी होगी। मेरा उनसे मना जरूरी है। इसके बाद उसने गड्ढा खुदवाकर वो उसमें उतर गई। जिसके बाद घरवालों ने चारपाई डालकर ऊपर से गड्ढे को बंद कर दिया था। इसका वीडियो भी वायरल हुआ था। करीब पांच घंटे बाद सूचना मिलने पर पहुंचे अफसरों ने गड्ढा खुदवाकर उसे बाहर निकाला और अस्पताल ले गए थे। डॉक्टर द्वारा स्वस्थ बताया गया था।

इसके बाद पुलिस कड़ी सुरक्षा में महिला गोमती, उसके पति रामसजीवन, बेटी सुमित्रा व पुत्र सहित छह लोगों को गुरुवार को एसडीएम कोर्ट ले गई थी। जहां पेश करने के बाद सभी को जेल भेज दिया गया। बताया गया कि इस दौरान परिवार के अन्य सदस्य डरे सहमे नजर आए। एसडीएम अरूण कुमार ने बताया कि तांत्रिक गोमती, उसका पति रामसजीवन व बेटी सुमित्रा व पुत्र समेत छह लोगों को जेल भेजा गया है।

Arvind Kumar Verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned