बालिका गृह से फरार किशोरी लगी पुलिस के हांथ, एक सप्ताह पूर्व दीवार फांदकर भागी थी दो किशोरी

पुलिस ने एक ऑटो चालक के फोन से किशोरी को तलाश लिया।

By: Arvind Kumar Verma

Published: 16 Sep 2020, 08:29 PM IST

कानपुर-बीते 8 सितंबर को कानपुर के स्वरूप नगर स्थित राजकीय बालिका गृह से दो किशोरी दीवार फांदकर भाग निकली थी। जिनमें से इटावा जनपद के जसवन्तनगर की किशोरी को दो दिन बाद ही पुलिस ने ढूंढ लिया था। वहीं आगरा रहने वाली किशोरी की तलाश में जुटी पुलिस को आखिर में सफलता मिल गई। पुलिस ने एक ऑटो चालक के फोन पर किए गए पेटीएम के जरिए नंबर ट्रेन करके किशोरी को फिरोजाबाद में उसके रिश्तेदार के घर से तलाश लिया। जिसके बाद उसे बालिका गृह में सुपुर्द किया गया। पुलिस को इस मामले में किशोरी के देवर व जेठ की भूमिका संदिग्ध लगी, जिसकी जांच की जा रही है।

दरअसल जसवन्तनगर व आगरा के इरादतनगर निवासी दो किशोरियों को स्वरूपनगर स्थित राजकीय बालिका गृह में भेजा गया था। जहां 8 सितंबर की देर रात दोनों किशोरियां भाग निकली थीं। जिसकी जानकारी बालिका गृह से पुलिस को दी गई। मामले को गंभीरता से लेते हुए तलाश में जुटी पुलिस को जसवन्तनगर की किशोरी दो दिन बाद ही मैनपुरी में मिल गई। वहीं दूसरी लापता किशोरी की तलाश में पुलिस जुट गई। मामले में थाना प्रभारी के मुताबिक बालिका गृह से भागने के बाद किशोरियां आगरा जाने के लिए बाद में बैठ गईं। मगर पैसे न होने की वजह से कंडक्टर ने उन्हें नीचे उतार दिया।

जिसके बाद उन्होंने एक टैम्पो चालक से बात करके उसके मोबाइल से अपने जेठ को फोन किया। उसने कहा कि बालिका गृह से उसे छुट्टी मिल गई है, लेकिन घर आने के लिए पैसे नहीं है। जिसके बाद टैम्पो चालक के पेटीएम खाते में ऑनलाइन नौ सौ रूपए मंगवाए गए। इसके बाद किशोरी ने चालक से नगड़ रुपए लेे लिए। फिर दूसरी बस द्वारा फिरोजाबाद निकल गई। जबकि दूसरी इटावा में ही उतर गई थी। बताया गया कि फिरोजाबाद पहुंचकर वह अपने देवर के घर रह रही थी। पुलिस ने कई नंबर ट्रेस करके किशोरी को तलाश लिया। जिसके बाद बालिका गृह में दाखिल कराया गया।

Arvind Kumar Verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned