आतंकी धमकी के बाद खौफजदा परिवार, मां का हाल-बेहाल, घर लौट आवो लाल

यूपी में लश्कर के आतंकी हमले के इनपुट के बाद एक लेटर ने कानपुर पुलिस के लिए बड़ा सिरदर्द, आतंकी संगठन ने सात लाख रूपए की डिमांड

By: Vinod Nigam

Published: 07 Jun 2018, 12:40 PM IST

कानपुर। बेटे तुम ही बुढ़ापे की लाठी हो। यदि तुम्हें कुछ हो गया तो मुझ़े कौन रोटी खिलाएगा। एक आतंकी संगठन की तरफ से धमकी भरा पत्र मिला है। संगठन ने हमसे सात लाख की डिमांड की है। नहीं देने पर तुम्में जान से मारने की बात लिखी है। तुम तत्काल जम्मू से कानपुर के लिए रवाना हो जाओ। यह शब्द बेवश मां ने फोन के जरिए अपने बेटे से कही। पीड़िता ने पुलिस में शिकायत दर्ज करा दी है। पुलिस पूरे प्रकरण की जांच कर रही है। वहीं पीड़िता का बेटा जो जम्मू के कटरा रेलवे स्टेशन में बतौर जेई के पद पर कार्य करता है, घर आने के लिए वहां से निकल पड़ा है।
कटरा में तैनात है बेटा
किदवई नगर थाना क्षेत्र स्थित ई ब्लाक में रहने वाली गीता बाजपाई अकेले ही रहती हैं। इनके पति सुनील बाजपाई का निधन हो चुका है। पीड़िता का एक बेटा है और रेलवे विभाग में जेई के पद पर जम्मू के कटरा में तैनात है। जब से आतंकी संगठन मुजाहिद्दीन का धमकी भरा खत मिला है उनकी तबियत बिगड़ गई। गीता खत लेकर किदवईनगर थाने पहुंची और पूरे मामले की जानकारी दी। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। वहीं गीता ने बुधवार को अपने बेटे से फोन के जरिए बात कर उसे तत्काल जम्मू छोड़ देने को कहा। गीता ने अपने बेटे को पूरी बात बताई और आतंकी धमकी के बाद उसे घर आने को कहा। बेटा कानपुर के लिए निकल चुका है।
4 जून को मिला था लेटर
गीता बाजपाई के घर पर किसी ने 4 जून को धमकी भरा लेटर लिख कर फेंका। गीता ने जैसे ही लेटर पढ़ा तो उनके पैरों के तले से जमीन खिसक गई।,दरसल लेटर में लिखा था अस्लाम्वालेकुम मै आतंकी संगठन मुजाहिद्दीन से हूं। मुझे पता है तुम्हारा बेटा जम्मू के कटरा में तैनात है। उसकी सलामती चाहती हो तो 15 दिन के अन्दर 7 लाख रुपये का इंतजाम कर लो। अगली चिट्ठी का इंतजार किया तो इसका अंजाम भुगतने के लिए तैयार रहना। गीता ने मीडिया से बात करने के बजाए सीधे पुलिस को जानकारी दी। पुलिस ने भी मामले पर ज्यादा तूल नहीं देने के लिए मीडिया से गुजारिश की। गीता गुरूवार की सुबह फिर थाने गई और जांच में क्या निकल रक आया, उसे पुलिस से पूछा।
सीसीटीवी फुटेज के जरिए जांच
गीता को जब से लेटर मिला है तब से वह लगातार अपने बेटे से संपर्क बनाए हुए हैं और दिन में दर्जनों बार बात करती हैं। वहीं परिवार के लोगों की मानें तो गीता का बेटा जम्मू से कानपुर के लिए निकल चुका है और आज देरशाम तक घर आ सकता है। इसी के बाद गीता मीडिया को जानकारी देगी। मामले की जानकारी होने पर एसएसपी अखिलेश कुमार ने बताया कि पत्र डाक से न आने, लेटर टाइप होने और मजमून देखकर किसी की शरारत लग रही है। हालाकि धमकी में एक आतंकी संगठन का नाम जुड़ने के चलते दो टीमें बनाकर एक्सपर्ट एजेंसी की मदद से मामले पर नजर रखी जा रही है। सीसीटीवी फुटेज से पत्र फेंकने वाले के विषय में सुरागरसी की जा रही है।

Show More
Vinod Nigam
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned