पुलिस की एकतरफा कार्यवाही से नाराज़ सपाईयों का चला काफिला, तो प्रशासन ने रोकते हुए दिया ये आश्वासन

-जिसका एक वीडियो सोशल मीडिया पर भी वायरल हुआ था,

-17 सितंबर को नौहानौ गांव में कुत्ते की मौत को लेकर दो पक्षों में हुई थी जमकर मारपीट,

-दूसरे पक्ष का आरोप था कि पुलिस ने पक्षपात किया और एकतरफा मुकदमा दर्ज किया,

By: Arvind Kumar Verma

Published: 24 Sep 2020, 02:10 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

कानपुर देहात-जनपद के रसूलाबाद क्षेत्र के नौहा नौगांव में हुए दो पक्षों के विवाद में पुलिस द्वारा एकतरफा कार्रवाई की जानकारी पर गांव पहुंच रहे सपाइयों को प्रशासनिक अधिकारियों ने रास्ते में ही रोक लिया और निष्पक्ष कार्रवाई का भरोसा देकर उन्हें वापस लौटाया। दरअसल विगत 17 सितंबर को नौहानौ गांव में कुत्ते की मौत को लेकर दो पक्षों में जमकर मारपीट हुई थी। जिसका एक वीडियो सोशल मीडिया पर भी वायरल हुआ था। मामले में पुलिस ने एक पक्ष के ऊपर मामला दर्ज किया, जिसमें 20 लोग अभियुक्त थे। वहीं दूसरे पक्ष का आरोप था कि पुलिस ने पक्षपात किया और एकतरफा मुकदमा दर्ज किया।

इसी बात को लेकर सपाई नौहा नौगांव में उस परिवार से मिलने के लिए जा रहे थे। जैसे ही प्रशासन को इस बात की भनक लगी तो मौके पर एसडीएम अंजू वर्मा व सीओ रामशरण सिंह पहुंचे। कटरा गांव में ही उन्होंने सपाईयों के काफिले को रोक दिया गया। साथ ही आश्वासन दिया कि मामले में निष्पक्ष कार्रवाई होगी। काफी वार्ता होने के बाद समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता शांत हुए। इस दौरान पूर्व विधायक कमलेश दिवाकर ने कहा कि नौहा नौगांव में हुए विवाद में पुलिस ने एकतरफा कार्रवाई की गई। इसको लेकर सपाइयों में खासी नाराजगी है।

उन्होंने कहा कि पुलिस भाजपा के लोगों के इशारों पर कार्य कर रही है और लोगों के साथ अन्याय हो रहा है। उन्होंने कहा कि पुलिस कितने भी मुकदमे क्यों न लिख दें, समाजवादी झुकने वाले नहीं है। आप जितना दबाओगे सपाई उतना उठेंगे। उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी का एक-एक कार्यकर्ता तब तक शांत नहीं रहेगा। जब तक यूपी में अखिलेश यादव की सरकार न बन जाए। इसके लिए जन जन तक पार्टी की नीतियां उपलब्धियां पहुंचाई जा रही हैं।

Arvind Kumar Verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned