कच्चे झोपड़े से निकलकर अफसर की चौखट पहुंचे ग्रामीण, आरोप लगाते हुए बताई अपनी दास्तां, मिला आश्वासन

ग्रामीणों ने ग्राम पंचायत सचिव पर आरोप लगाए।

By: Arvind Kumar Verma

Published: 16 Sep 2020, 07:59 PM IST

कानपुर देहात-प्रदेश सरकार से लेकर केंद्र सरकार गरीबों के लिए आवास, शौंचालय मुहैया करा रही है, जिससे लोगों को मुसीबत न उठानी पड़े। लेकिन सरकारी तंत्र के कर्मियों ने अपने रवैए के चलते जमीनी हकीकत बदलकर रख दी है, जो सरकार की मंशा पर पानी फेरते नजर आ रहे हैं। ऐसा ही मामला कानपुर देहात के रसूलाबाद क्षेत्र में सामने आया, जहां ग्राम पंचायत सचिव की हठधर्मिता के चलते कई पात्र परिवार ग्रामीण आवास योजना से हटा दिए गए। इसके चलते दो दर्जन से अधिक ग्रामीणों ने ब्लॉक पहुंचकर खंड विकास अधिकारी को शिकायती पत्र देकर गुहार लगाई। ग्रामीणों ने ग्राम पंचायत सचिव पर आरोप लगाए।

कानपुर देहात के रसूलाबाद ब्लाॅक के खंड विकास विकास अधिकारी कार्यालय के बाहर उस समय भीड़ एकत्रित हो गई, जब सिमरामऊ गांव के दो दर्जन से अधिक ग्रामीणों का जमावड़ा लग गया। महिला एवं पुरुष ग्रामीणों ने लिखित शिकायतें देकर अपने पंचायत के ग्राम सचिव मो.जावेद पर आवास आवंटन सूची से गरीब पात्रों के नाम काटने का आरोप लगाया है। खण्ड विकास अधिकारी सच्चिदानन्द प्रसाद ने ग्रामीणों को समझाते हुए कहा कि निश्चिंत रहें। कोई भी पात्र वंचित नहीं रहेगा। पुनः जांच कराकर पात्रों को हर हाल में आवास दिए जाएंगे।

खण्ड विकास अधिकारी से की गई शिकायतों में ग्राम पंचायत सिमरामऊ सहित मजरों के निवासियों में सूरजपाल, नरेश सिंह, उर्मिला, कविता, नसरीन, आशा देवी, प्रीती, सोनी देवी व दुलारी सहित अन्य ग्रामीणों ने अपनी शिकायतों में कहा कि हम लोग पात्र हैं। सभी का यह भी कहना है हम लोगो के कच्चे मकान हैं, जिसमे एक भी पक्की ईँट नही लगी है। शिकायतकर्ताओं ने खण्ड विकास अधिकारी सचिदानन्द से पुनः जांच कराकर पात्रों को आवास देने की मांग की। इस सम्बंध में खण्ड विकास अधिकारी सच्चिदानंद प्रसाद ने बताया कि पुनः जांच कराकर पात्रों को आवास अवश्य दिए जाएंगे। फिलहाल स्थलीय सत्यापन का कार्य चल भी रहा है।

Arvind Kumar Verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned