दो मासूमों को पटरी पर लिटाकर ट्रेन की ओर दौड़ पड़ी महिला

सनिगवंा के पास यह नजारा देखकर चौंक गए लोग
शराबी पति से तंग आकर बच्चों सहित जान देने पहुंची

कानपुर। चकेरी इलाके के सनिगंवा में रेलवे लाइन पर लोगों ने ऐसा नजारा देखा कि उनके पसीने छूट गए। एक महिला ने अपने दो मासूम बच्चों को पटरी पर लिटाया और फिर खुद भी तेजी से अपनी ओर आ रही मालगाड़ी की ओर दौड़ पड़ी। स्थानीय लोगों ने यह देखा तो हिम्मत जुटाई और पुलिस की मदद से महिला और दोनों बच्चों को पटरी से किनारे किया। अगर थोड़ी देर हो जाती तो तीनों की मौत हो सकती थी।

शराबी पति की पिटाई से थी तंग
कुशीनगर निवासी मजदूर विनोद कुमार दस दिन पहले ही कानपुर आया था। उसके परिवार में पत्नी संगीता, डेढ़ साल का बेटा धीरज व चार साल की बेटी उन्नति हैं। चौकी प्रभारी राम सिंह ने बताया कि सनिगवां में किराए के मकान में रह रहा विनोद शराब का लती है। उसका हर रोज अपनी पत्नी से झगड़ा होता है और फिर पति उसकी पिटाई भी करता है। दोपहर भी किसी बात पर दोनों में विवाद हो गया था। जिससे संगीता तंग आ चुकी थी। इसी वजह से उसने अपनी और बच्चों की जिंदगी खत्म करने का फैसला कर लिया।

जान देने पहुंची रेलवे ट्रैक पर
संगीता दोनों बच्चों संग बजरंग ग्राउंड के पास स्थित रेलवे ट्रैक पर पहुंच गई। वहां से गुजर रहे राहगीरों ने संगीता को रोते हुए रेलवे ट्रैक की तरफ जाते देखा तो संदेह हुआ। उसे समझाने का प्रयास किया पर नहीं मानी और ट्रैक पर पहुंच गई। इस बीच किसी ने पुलिस को सूचना दी तो पीआरवी 420 पहुंच गई। यह देख संगीता दोनों बच्चों को पटरी पर लेटा खुद सामने से आ रही मालगाड़ी की तरफ भागने लगी। यह देखकर सिपाही सुरजन सिंह, लाल बहादुर और ड्राइवर रमेश चंद्र ने दौडक़र तीनों को ट्रैक से किनारे किया। फिर संगीता को समझाकर शांत कराया। चौकी प्रभारी ने बताया कि महिला को समझाकर पति के सुपुर्द कर दिया गया। पति को दोबारा न झगडऩे की चेतावनी दी है।

Show More
आलोक पाण्डेय
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned