दो पॉवर प्लांट के लिए की गई थीं ये तैयारियां, इस कंपनी को कार्य योजना से कार्य करना था, फिर...

किसानों को रोजगार के लिये दूसरे राज्यों में नौकरी करने के लिये मजबूर होना पड़ रहा है।

By: Arvind Kumar Verma

Published: 10 Sep 2020, 07:22 PM IST

Kanpur, Kanpur, Uttar Pradesh, India

कानपुर देहात-मूसानगर क्षेत्र ज्यादातर बीहड़ है। यहाँ से यमुना और सेंगुर नदी निकली है। बीहड़ इलाका होने की वजह से पूर्व की सरकार ने यहाँ के किसानों को रोजगार देने के लिये लैंको और हिमावत कम्पनी से 1320x1320 के 2 पावर प्लांट लगाने की मंजूरी दी थी। लैंको कम्पनी ने इसकी पूरी कार्य योजना बनाकर भारत सरकार और यूपी सरकार को भेज दी थी। 2011 में लैंको के सीईओ और कानपुर देहात के तत्कालीन डीएम व कमिश्नर ने आड़न स्कूल में पहुंचकर भूमि पूजन किया था।

किसानों की 1080 हेक्टेयर भूमि अधिग्रहण कर सभी किसानों को मुआवजा राशि भी दे दी गयी और लैंको ने पावर प्लांट को 5 वर्ष में तैयार करके बिजली बनाने की शुरुआत करने की बात कही थी, लेकिन लगभग 10 वर्ष होने को हैं लैंको के द्वारा अभी तक कार्य शुरू नही कराया है, जिससे यहां के किसान मायूस हैं। किसानों का कहना है कि जब सारी तैयारियां हो चुकी थी तो आखिर लैंको ने पावर प्लांट लगाने की शुरुआत क्यों नही की? अगर लैंको पावर प्लांट नही लगा पा रही है तो उसके स्थान पर कोई दूसरा प्लांट लगवा दिया जाये, जिससे क्षेत्र के बीहड़ इलाके में रहने वाले किसानों को रोजी रोजगार के साथ सुविधाएं भी मिल सकें।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned