नौकरी की तलाश मे थे चार युवक फिर इस तरह लगा 32 लाख का चूना, मजबूर युवकों को इस तरह बनाते हैं शिकार

नौकरी की तलाश मे थे चार युवक फिर इस तरह लगा 32 लाख का चूना, मजबूर युवकों को इस तरह बनाते हैं शिकार

Arvind Kumar Verma | Updated: 03 Jul 2019, 05:49:26 PM (IST) Kanpur, Kanpur, Uttar Pradesh, India

तीन साल गुजर गए और नौकरी भी नही मिली। जब उक्त लोगों ने पैसे वापस मांगे तो दबंगो ने धमकी दे डाली।

कानपुर देहात-बेरोजगारी का आलम बड़ा ही खराब होता है। रोजगार की तलाश में कभी कभी लोग बड़ी ठगी का शिकार हो जाते हैं। क्योंकि नौकरी लगवाने का झांसा देने वाले तमाम ठगों के गिरोह ऐसे ही नवयुवकों की फिराक में रहते हैं और उन्हें अपना शिकार बनाते हैं। ऐसा ही एक मामला कानपुर देहात से जुड़ा है। यहां थाना गजनेर क्षेत्र के ज्युनियां निवासी सत्यजीत यादव व पुखरायां भोगनीपुर के बृजेश विक्रम, संदीप कुमार और दिलीप के साथ कुछ ऐसा ही हुआ। दरअसल देवराहट के चंद्रप्रकाश उर्फ सीपी ने इन चारों लोगों से कृषि विभाग में नौकरी लगवाने की बात कहते हुए धनराशि जमा करने की बात कही। इस पर उक्त लोगों से 32 लाख रुपये शातिर चंद्रप्रकाश व उसके पिता एवं इनके साथी विजय वर्मा ने नगद, चेक व आरटीजीएस के जरिये ले लिए।

 

इसके बाद उन्हें कृषि विभाग में आयात निर्यात निगम का नियुक्ति पत्र भी दे डाला। इस मामले में शंका होने पर जब उक्त लोगों ने जांच कराई तो मामला फर्जी निकला। इस पर चारो लोगों के होश फाख्ता हो गए। इस दौरान तीन साल गुजर गए और नौकरी भी नही मिली। जब उक्त लोगों ने पैसे वापस मांगे तो दबंगो ने धमकी दे डाली। पुलिस द्वारा सुनवाई न होने पर पीड़ितों ने मामले को लेकर एसएसपी कानपुर अनंंतदेेेव से न्याय की गुुहार लगाई। एसएसपी के आदेश पर कोतवाली पुलिस ने आरोपितों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की। कोतवाली इंस्पेक्टर ने बताया कि आरोपितों के खिलाफ धोखाधड़ी, षणयंत्र रचने व फर्जी दस्तावेज का प्रयोग करने की धाराओं में रिपोर्ट दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned