चलते-चलते ‘बब्बन-गब्बर’ बना लेते हैं बेजोड़ पिस्टल

Vinod Nigam

Updated: 15 Jun 2019, 08:36:01 AM (IST)

Kanpur, Kanpur, Uttar Pradesh, India

कानपुर। रेलबाजार पुलिस की सटीक सूचना मिली थी कि अवैध असलहों के तस्कर कानपुर के झकरकटी बस अड्डे पर आए हुए हैं। पुलिस तत्काल हकरत में आई और मौके पर पहुंच गई। पुलिस को देख दो शातिर भागनें लगे। पीछा कर उन्हें दबोच लिया। तलाशी के दौरान आरोपियों के पास से तमंचे और जिंदा कारतूत बरामद हुए हैं। दोनों आरोपी प्रतापगढ़ के रहनें वाले हैं और यहां किसी को असलहा देने के लिए आए थे। शातिरों ने पुलिस को बताया कि वो पिछले कई सालों से मौत के औजार बना रहे थे। चंद मिनट के अंदर पिस्टल, बंदूक और चमंचे बनाने में दोनों माहिर है।

प्रतापढ़ के रहने वाले हैं शातिर
पुलिस उपाधीक्षक सीओ कैंट ने रवि कुमार सिंह प्रेसवार्ता के दौरान बताया कि रेलबाजार थानाप्रभारी दधिबल तिवारी को सूचना मिली कि इलाके में दो संदिग्ध युवक असलहों की सप्लाई करने जा रहे है। सटीक सूचना के आधार पर पुलिस ने जाल बिछाया और सीओडी पुल के पास भोर के समय प्रतापगढ़ जाने वाली बस के इंतजार में खड़े गोलू उर्फ बब्बन और अमन उर्फ गब्बर को घेर लिया। पुलिस को देख दोनों भागने लगे, लेकिन पुलिस ने उन्हें पकड़ लिया। तलाशी में उनके कब्जे से तमंचे व कारतूस बरामद हुए। जिसके बाद दोनों को थाने लाकर पूछताछ की गई।

ऐसे करते थे मौत के सामान का सौदा
सीओ कैंट ने बताया कि गिरफ्तार अभियुक्त प्लम्बर का काम करते हैं और जहां काम करने जाते है, वहां पर मालिक से लाइसेंसी बंदूक, राइफल होने का पता करते है। इसके बाद दोनों ही बातों में फसाकर उनसे लाइसेंस पर मिलने वाले कारतूसों के लिए सौदा करते हैं। कारतूसों की खेप तैयार हो जाने पर अवैध तमंचों के साथ बदमाशों व जरुरतमंदों को बेच देते हैं। गिरफ्तारी के दौरान दोनों प्रतापगढ़ में चार तमंचे, अलग-अलग बोर के 80 कारतूस सहित खोखा कारतूस की सप्लाई देने जा रहे थे, लेकिन पुलिस के हत्थे चढ़ गये।

खंगाला जा रहा पूरा नेटवर्क
सीओ कैंट के मुताबिक गिरफ्तार असलहा व कारतूस तस्करों ने पूछताछ में लाइसेंस पर कारतूस लेकर बेचने वालों में महाराजपुर के राम बहादुर व नौबस्ता के राजेश का नाम बताया है। इन दोनों के लाइसेंस पर कारतूस लेने व उन्हें इस्तेमाल करने की जांच की जा रही है। इसके साथ ही गिरफ्तार तस्करों के सम्पर्क में अन्य कारतूस बेचने वाले, अवैध असलहा व कारतूस खरीदने वालों का पूरा नेटवर्क खंगाला जा रहा है। इनमें जिनके भी नाम सामने आएंगे उनकी गिरफ्तारी करते हुए कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

आईकार्ड की करें जांच
सीओ कैंट रवि कुमार सिंह ने बताया अगर घर में पानी का नल खराब है। जिसको सही करवाने के लिए प्लम्बर को बुलाने से पहले सावधानी बरते। प्लम्बर को घर के अंदर बुलाने से पहले उसका आईकार्ड जरुर चेक कर लें अन्यथा आपके साथ कोई घटना कारित हो सकती है। सीओ का कहना है कि इसके पीछे उनका मकसद डराने का नहीं बल्कि सावधान करने का है। क्योंकि जिन दो प्लम्बर को गिरफ्तार किया है उनके पास से भारी मात्रा में जिंदा कारतूस समेत चार देशी तमंचे बरामद हुए हैं। किसी भी मरम्मत का काम करने वाले को पुलिस वेरिफिकेशन कराने के बाद ही घर में लेकर जाए, ताकि आप सुरक्षित रह सके।

 

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned