ट्रेन की बोगियों के टॉयलेट में खुली चाय-पानी की दुकान

Vinod Nigam

Publish: May, 19 2019 08:08:03 AM (IST)

Kanpur, Kanpur, Uttar Pradesh, India

कानपुर। बिना कैंटीन वाली ट्रेनों में अवैध रूप से खाने पीने का कारोबार धड़ल्ले से जारी है। प्लेटफार्म पर ट्रेन आते ही अवैध वेंडर सक्रीय हो जाते हैं और बोगी के टॉयलेट पर कब्जा कर उसी के अंदर खाने पीने का सामान रख लेते हैं। ट्रेन चलने के बाद यही सामान मुसाफिरों को बेचा जा रहा है। यदि किसी ने विरोध किया तो चलती वेंडर मारपीट पर उतारू हो जाते हैं। ये पूरा खेल रेलवे के अधिकारियों के अलावा जीआरपी और रेलवे पुलिस की मिलीभगत से संचालित है।

मंत्री के दावे की खुली पोल
रेलमंत्री पियुष गोयल कानपुर दौरे पर आए थे और सेंट्रल रेलवे स्टेशन को देश का सबसे खूबसूरत स्टेशन बनाए जाने का वादा किया था। लेकिन इस वक्त स्टेशन में रेलवे के अलाधिकारियों की मिलीभगत से अवैध वेंडरों का बोलबाला है। जैसे ही ट्रेन प्लेटफार्म पर आती है वैसे ही पूर्व निर्धारित कोचों में अवैध खाद्य व पेय सामग्री लोड होनी शुरू हो जाती है। अवैध वेंडरों का इससे कोई लेनादेना नहीं होता कि सवारियों को भी उतरना है। अगर सवारी विरोध भी करती हैं तो उन्हें डरा धमकाकर शांत कर दिया जाता है। वेंडर बोगियों के टॉयलेट पर कब्जा कर खाद्य समाग्री रख लेते हैं और फिर सामान निकाल कर बेचते हैं।

टॉयलेट पर लिखा जलपान
सेन्ट्रल स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर सात पर दिल्ली से जोगबनी जाने वाली सीमांचल एक्सप्रेस ट्रेन जैसे ही आती है वैसे ही अवैध वेंडर खाने पीने का सामान बोगी के टॉयलेट में रखना शुरू कर देते हैं। यात्री गुड़िया के मुताबिक वेंडर ने टॉयलेट के पास बैठे यात्रियों को जबरन हटा दिया। आकाश नाम के यात्री ने जब विरोध किया तो उसे पीटनें लगे। यात्रियों के मुताबिक अवैध वेंडर इतने शातिर है कि ट्रेन की बोगी में बने टॉयलेट पर बाकायदा रेल जलपान सेवा लिख देते हैं। अवैध वेंडर प्लेटफार्म व ट्रेनों में सक्रीय न रहे इसलिए इसकी जिम्मेदारी आरपीएफ पुलिस की होती है। पर वेंडर इस कारोबार को संचालित करने के लिए मुहंमांगी रकम देते हैं।

इन ट्रेनों पर चल रहा कारोबार
कानपुर से होकर गुजरने वाली करीब एक दर्जन लंबी दूरी की ट्रेनों में पेंट्रीकार नहीं हैं। इनमें सीमांचल एक्सप्रेस, चेन्नई एक्सप्रेस, ग्वालियर बरौनी एक्सप्रेस, चौरीचौरा एक्सप्रेस, आगरा इंटरसिटी, झांसी इंटरसिटी और मुम्बई की ओर जाने वाली जनसाधारण एक्सप्रेस ट्रेनें प्रमुख हैं। सेंट्रल स्टेशन पर जिस ट्रेन को लेकर सबसे अधिक अराजकता है, वह सीमांचल एक्सप्रेस है। आनंद विहार से चलकर जोगबनी तक 1379 किमी की यात्रा करने वाली इस ट्रेन पर पूरी तरह से अवैध वेंडरों की कब्जा है।

ये खाद्य समाग्री की बिक्री
आनंद विहार से चलने के बाद ट्रेन में सेंट्रल स्टेशन पर ही अवैध रूप से पानी, शीतल पेय, चाय, स्नैक्स और खाद्य सामग्री चढ़ाई जाती है। रोजाना डंके की चोट पर यह सब कुछ होता है, लेकिन कोई रोकने टोकने वाला नहीं है। इस संबंध में आरपीएफ प्रभारी पीके ओझा ने बताया कि सीमांचल एक्सप्रेस पर हाल ही में दो बार आरपीएफ कार्रवाई कर चुकी है। आरपीएफ ने दस अप्रैल व 27 अप्रैल को छापा मारकर ट्रेन में संचालित अवैध पैंट्री को पकड़ा और भारी मात्रा में सामग्री के साथ बीस अवैध वेंडरों को गिरफ्तार किया था।

 

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned