दारोगा ने सीओ और एसओ को जमकर दी गालियां, एसएसपी ने किया निलंबित

बिठूर के दारोगा का वीडियो वायरल, महकमे की साख दांव पर

कानपुर। बड़बोलेपन में बिठूर के एक दरोगा पर कार्रवाई की तलवार लटक गई है। उस पर घूस मांगने का आरोप तो लगा ही है, साथ ही थानेदार के साथ-साथ सीओ को गालियां देने का मामला भी उसके लिए गले की फांस बन गया है। दूसरी ओर उसने विधायक को भी नहीं छोड़ा। वायरल किए गए वीडियो में वह विधायक को भी अपशब्द कहता मिला है। यह वीडियो सामने आने के बाद तत्काल इस दरोगा को डीआईजी ने लाइन हाजिर कर दिया है। अब इस वायरल वीडियो की जांच कराई जाएगी और अगर आवाज उसी दरोगा की साबित हुई तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जा सकती है। अब सीओ स्वरूपनगर इस मामले की जांच करेंगे।

घूस मांगते समय चुपके से बना वीडियो
आरोपी ट्रेनी दरोगा सूरज चौहान बिठूर थाने में तैनात था। वायरल हुए वीडियो में साफ दिख रहा है कि वह एक कार के अंदर बैठा हुआ है और अंदर बैठे दूसरे लोगों से एक मुकदमा खत्म करने के लिए रुपए की मांग कर रहा है। इसके साथ ही थानेदार और सीओ को भी मामला रफा-दफा करने के लिए हिस्सा देने की बात कह रहा है। इतना नहीं अफसरों के साथ ही विधायक के लिए भी अपशब्दों का इस्तेमाल किया।

दरोगा ने बोली यह बातें
वायरल हुए वीडियो में ट्रेनी दरोगा सूरज चौहान बातचीत के दौरान कहता है कि - कोई भी काम फ्री में नहीं होता, हर काम का दाम होता है, बिना पैसों के वह काम क्यों करेंगे। ये रकम एसओ और सीओ तक पहुंचती है। एसओ पचास फीसदी रकम लेते हैं और अन्य पचास फीसदी में सीओ व सिपाहियों को देना पड़ता है। एक भाजपा विधायक मेरे रिश्तेदार हैं। (इस दौरान दरोगा ने पुलिस अफसरों और विधायक को गालियां भी दीं।) बोला- जो उसने लिख दिया वो लिख दिया। उसमें विधायक क्या करेंगे। उसका कहना है कि यही हाल शहर के सभी थानों का है।

२६ सेकेंड का वीडियो हुआ वायरल
दस मिनट 26 सेकेंड के इस वीडियो में इसी तरह के तमाम आरोप पुलिस पर लगाए। कार में दरोगा के साथ पीछे बैठे युवक ने यह वीडियो बनाने के बाद वायरल कर दिया जिससे उसकी कलई खुल गई और डीआईजी अनंत देव ने लाइन हाजिर कर दिया। डीआईजी ने स्वरूप नगर सीओ अजीत सिंह चौहान को दरोगा की जांच दी है। जांच के बाद अगर दरोगा पर लगाए गए आरोप सही पाए गए तो विभागीय कार्रवाई की जाएगी। कल्याणपुर सीओ के मुताबिक दरोगा किसी मुकदमे को खत्म करने के नाम पर घूस मांग रहा है। इसके चलते थाने में तैनाती के बाद दरोगा की ओर से की गई सभी विवेचनाओं की दोबारा जांच की जाएगी।

Show More
आलोक पाण्डेय
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned