विकास दुबे के करीबियों पर कसता जा रहा शिकंजा, लाइसेंस निरस्त कर सभी के जब्त किये गए असलहे

विकास दुबे केस में अब तक 18 असलहों के लाइसेंस निरस्त हो चुके हैं। वहीं बाकी 11 असलहा लाइसेंसों पर भी डीएम कोर्ट में सुनवाई हो रही है।

कानपुर. बिकरू कांड को अंजाम देने वाले विकास दुबे के करीबियों पर शिकंजा बराबर कसता ही जा रहा है। गैंग्स्टर विकास दुबे के भाई समेत बिकरू कांड से जुड़े आठ असलहा लाइसेंस को डीएम कोर्ट ने निरस्त कर दिया है। साथ ही सभी असलहों को जब्त भी कर लिया गया है। जिसके बाद कुल मिलाकर अब तक 18 असलहों के लाइसेंस निरस्त हो चुके हैं। वहीं बाकी 11 असलहा लाइसेंसों पर भी डीएम कोर्ट में सुनवाई हो रही है।

दरअसल चौबेपुर पुलिस ने विकास दुबे के भाई, परिवार समेत 29 लोगों के असलहा लाइसेंस निरस्त करने की संस्तुति की थी। सभी की सुनवाई डीएम कोर्ट में चल रही थी। पूर्व डीएम डॉ. ब्रह्मदेव राम तिवारी की कोर्ट ने 10 असलहा लाइसेंसों को निरस्त किया था। अब मौजूदा जिलाधिकारी आलोक तिवारी की कोर्ट ने दूसरे आठ असलहों के भी लाइसेंसों को निरस्त कर दिया है। एडीएम सिटी अतुल कुमार ने बताया कि बिकरू कांड से जुड़े और विकास दुबे के करीबियों के आठ लाइसेंस निरस्त किए गए हैं।

इनके लाइसेंस हुए निरस्त

जिनके लाइसेंस निरस्त हुए हैं उनमें विकास दुबे का भाई बिकरू निवासी दीपक दुबे, श्रीकांत शुक्ला, रमेश चंद्र द्विवेदी, राकेश कुमार, रवींद्र कुमार, मदारीपुरवा निवासी सूरज सिंह और बसेन निवासी आशुतोष उर्फ शिव त्रिपाठी के दो असलहा लाइसेंस शामिल हैं।

असलहों पर थे फिंगर प्रिंट

कानपुर एनकाउंटर में जिन असलहों का इस्तेमाल हुआ था, उनमें से दस असलहों पर तमाम लोगों की उंगलियों के निशान थे। चार्जशीट के साथ लगाई गई एफएसएल टीम की रिपोर्ट में इस बात की जानकारी साझा की गई है। यह निशान एक-दूसरे को असलहा देने और लेने में आए। चार्जशीट में जिन 102 गवाहों की गवाही दाखिल की गई है। उसमें भी इस बात का खुलासा हुआ है कि आरोपियों ने एक-दूसरे को असलहे दिए थे। वहीं बिकरू कांड में पुलिस अब तक एक दर्जन से ज्यादा असलहे बरामद कर चुकी है। इसमें बंदूक, राइफल, तमंचा आदि शामिल हैं। पुलिस से लूटी गई पिस्टल और एके-47 में भी आरोपियों की उंगलियों के निशान मिले हैं। इसके बारे में भी एफएसएल रिपोर्ट में जानकारी दी गई है।

नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned