हाईटेक सुविधओं से लैस काशी-महाकाल एक्सप्रेस कराएगी इन ज्योतिर्लिंगों के दर्शन


पीएम मोदी ने झरी झंडी दिखाकर 16 फरवरी को वाराणसी से इंदौर के लिए किया था रवाना, 20 से आमयात्री कर सकेंगे सफर।

 

Vinod Nigam

Updated: 18 Feb 2020, 09:08 AM IST

Kanpur, Kanpur, Uttar Pradesh, India

कानपुर। वाराणासी से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने काशी-महाकाल एक्सप्रेस को झंडी दिखाकर इंदौर के लिए रवाना कर दिया। रविवार को ये ट्रेन कानपुर सेंट्रल स्टेशन पहुंची। यहां पर सांसद सत्यदेव पचौरी ने भव्य स्वागत किया। कुछ देकर के बाद ट्रेन महाकाल के लिए प्रस्तान कर गई। सांसद ने बताया कि यह ट्रेन तीन ज्योतिर्लिंगों काशी विश्वनाथ, ओमकारेश्वर (इंदौर के निकट) और महाकालेश्वर (उज्जैन) को जोड़ेगी। इसके जरिए भक्त कम पैसे में भगवान भोले के दर्शन कर सकेंगे।

भव्य स्वागत
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को वाराणसी से इंदौर तक जाने वाली तीसरी प्राइवेट सेक्टर की ट्रेन को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। ट्रायल के चलते यह ट्रेन रविवार को अपने निर्धारित समय से डेढ़ घंटे पहले 7 बजकर 20 मिनट पर कानपुर सेंट्रल के वीआइपी प्लेटफार्म नंबर एक पर पहुंची। स्टेशन पर सांसद सत्यदेव पचौरी ने ट्रेन की अगवानी की। इसके बाद झंडी दिखाकर ट्रेन को इंदौर के लिए रवाना किया। इस ट्रेन में अकबरपुर विधानसभा के सांसद देवेंद्र सिंह भोले भी महाकाल के दर्शन के लिए निकल गए।

इन सुविधाओं से लैस
ट्रेन के अधिकारियों के मुताबिक पूर्व में इस ट्रेन में कुल 18 बोगियां थी, लेकिन आईआरसीटीसी ने इसमें बदलाव करते हुए कुल 12 बोगियां चलाने का फैसला लिया है। जिसमें यात्रियों के लिए नौ, एक पैंट्री व दो जनरेटर यान की रहेंगी। तीन बोगियों को रिजर्व में रखा गया है। यात्रियों की संख्या बढने पर अतिरिक्त बोगियां लगाई जाएंगी। ट्रेन में 5 सुरक्षाकर्मी हर बोगी में रहेंगे। हर यात्री का 10 लाख रुपये का रेल ट्रैवल बीमा होगा। इसमें किराए के साथ 300 रुपये कैटरिंग चार्ज भी होगा। 20 सीटें सीनियर सिटीजन के लिए,6 सीटें महिलाओं और 4 बर्थ दिव्यागजन के लिए आरक्षित हैं।

बड़ा तोहफा
सांसद सत्यदेप पचैरी ने बताया कि हमनें रेलमंत्री से मिलकर कानपुर से इंदौर-भोपाल-मुम्बई रूट पर ट्रेनों की संख्या बढ़ाए जाने की मांग की थी। फलस्वरूप यूपी के लोगों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बड़ा तोहफा दिया है। काॅशी-महाकाल एक्सप्रेस के चलने से अब भक्तों का जहां समय बचेगा, वहीं खर्च भी कम आएगा। इसके जरिए भक्त तीन ज्योतिलिगों के दर्शन कर सकेंगे। सांसद देवेंद्र सिंह भोले रवाना होने से पहले कहा कि हम महाकाल के दर्शन के लिए इसी के जरिए जा रहे हैं। यहां यहां के लोगों के लिए मील का पत्थर साबित होगी।

20 से ट्रैक पर दौडेगी ट्रेन
रेलवे के अधिकारियों के मुताबिक नई दिल्ली-लखनऊ और मुंबई-हैदराबाद रूट पर पहले से तेजस ट्रेनों का परिचालन कर रही है। आमयात्रियों के लिए काशी-महाकाल एक्सप्रेस शुरुआत 20 फरवरी से होगी। आईआरसीटीसी की वेबसाइट से इस ट्रेन के लिए बुकिंग शुरू हो गई है। इस ट्रेन का परिचालन सप्ताह में तीन दिन किया जाएगा। दो दिन इसे सुल्तानपुर-लखनऊ के रास्ते चलाया जाएगा। एक दिन इसे प्रयागराज यानी इलाहाबाद के रास्ते चलाया जाएगा।

कुछ इस तरह से चलेगी ट्रेन
ट्रेन को सप्ताह में एक दिन प्रयागराज के रास्ते चलाया जाएगा। ट्रेन हर रविवार को वाराणसी से अपराह्न 3 बजकर 15 मिनट पर इंदौर के लिए रवाना होगी। ट्रेन अगले दिन सुबह 9.40 बजे इंदौर पहुंचेगी। यह ट्रेन हर सोमवार को सुबह 10.55 बजे इंदौर से चलेगी। ट्रेन अगले दिन सुबह पांच बजे वाराणसी पहुंचेगी। दोनों दिशाओं से यह ट्रेन उज्जैन, संत हिरदाराम नगर, बीना, झांसी, कानपुर और प्रयागराज स्टेशनों पर रूकेगी।

शाकाहारी भोजन
रेलवे के अधिकारियों के मुताबिक काशी महाकाल एक्सप्रेस का किराया दोनों तेजस ट्रेनों की तरह डायनिमिक होगा, इसका मतलब है कि आप जितनी जल्दी टिकट बुक कराएंगे उतने फायदे में रहेंगे। आईआरसीटीसी की वेबसाइट के मुताबिक वाराणसी से इंदौर के बीच एक व्यक्ति का किराया 1951 रुपये है। इस ट्रेन में आपको शाकाहारी खाना मिलेगा। ट्रेन में खाना ट्रॉली से परोसा जाएगा। इसमें वाराणसी की कचैड़ी और इंदौर का पोहा खाने का स्वाद बढ़ाएगा।

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned