Weather Update:गुरूवार की सुबह से आमसान में मंडरा रहे मेघ, तेज आंधी-बारिश और वज्रपात की चेतावनी

जनपद के कई इलाकों में 23 अप्रैल को हल्‍की बारिश की संभावना जताई गई है,पच्छिम विक्षोभ के सक्रिय होने के कारण 27 तक ऐसे ही बने रहेंगे हालात।

 

By: Vinod Nigam

Published: 23 Apr 2020, 10:55 AM IST

कानपुर। हरदिन मौसम के रंग बदलने से लोग सहमे हुए हैं। बुधवार को आसमान साफ था और दूर-दूर तक बादल नजर नहीं आ रहे थे, लेकिन गुरूवार की सुबह से आमसान में मेघ मंडराने लगे। जिसके कारण किसान सुबह से खेतों में डटा है। सीएसए के मौसम विभाग के अनुसार पच्छिमी विक्षोभा के सक्रिय होने से तेज आंधी, बारिश और वज्रपात का अनुमान हैं अगामी 24 घंटे तक कहीं तेज तो कहीं हल्की बरसात होगी।

27 तक बारिश के आसार
पिछले दो दिनों से तेज धूप और उमस लोगों को कुछ परेशान कर रही है, लेकिन गुरूवार की सुबह से आमसान में बादलों के साथ हवा चलने से मौसम खुशनुमा हो गया। बुधवार को अधिकतम तापमान 35 डिग्री और न्यूनतम तापमान 21.2 डिग्री था। अधिकतम आर्द्रता 59 तो न्यूनतम आर्द्रता 30 प्रतिशत थी। हवाएं 4 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से चल रही हैं। मौसम वैज्ञानिक डाॅक्टर नौशाद खान के मुताबिक 23 को बादल छाए रहेंगे और शाम के समय बारिश की संभावना है। 24 अप्रैल को मौसम फिर शुष्क रहेगा। वहीं, 25 और 27 अप्रैल को फिर बारिश होगी। इस दौरान मौसम 36 से 37 डिग्री के ऊपर नहीं जाएगा।

पच्छिम विक्षोभ सक्रिय
मौसम वैज्ञानिक डॉक्टर नौशाद खान ने बताया 18 अप्रैल से पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय होने की वजह से मौसम बदल गया। बीते शनिवार की सुबह हल्की बूंदाबांदी भी हुई। मौसम सुहावना हो गया। दिनभर आसमान में बादल छाए रहे और हवाएं चलती रहीं। मौसम वैज्ञानिक का कहना है कि पहाड़ों में बारिश और बर्फबारी हो रही है। इसकी वजह से अब पश्चिमी विक्षोभ आगे बढ़ रहा है। जिसका असर उत्तर प्रदेश पर भी देखने को मिला। फिलहाल 27 अप्रैल तक मौसम का हाल इसी तरह से रहने का अनुमान है।

किसानों की बढ़ी टेंशन
मौसम बदलने की वजह से किसानों की टेंशन बढ़ गई है। कुछ किसानों की गेहूं की फसल फसल कटकर खेतों में पड़ी है, जबकि अभी काफी खेत में ही खड़ी है। किसानों का कहना है कि ऐसे हालात में यदि बारिश होती है तो गेहूं की फसल का नुकसान होगा। किसानों ने बताया कि कोरोना वायरस के चलते देश में लाॅकडाउन चल रहा हैं मजदूर नहीं मिलने के कारण फसल की कटाई समय पर नहीं हो रही। यदि बारिश व आंधी आई तो बची फसल का बर्बाद होना तय हैं।

IMD alert
Show More
Vinod Nigam
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned