इस शहर में सुरक्षित नहीं रहीं बेटियां, आए दिन बन रहीं दरिंदगी की शिकार

इस शहर में सुरक्षित नहीं रहीं बेटियां, आए दिन बन रहीं दरिंदगी की शिकार

Alok Pandey | Updated: 11 Jun 2019, 01:49:06 PM (IST) Kanpur, Kanpur, Uttar Pradesh, India

कहीं अपने तो कहीं पराए ही बन रहे दुश्मन, छेड़छाड़ तो आम बात, रेप और महिलाओं से ठगी की घटनाएं शहर में हो रहीं सबसे ज्यादा

कानपुर। बेटियां अब कहीं सुरक्षित नहीं है। चाहे घर हो या बाहर, हर जगह उन पर खतरा है। कहीं छेडख़ानी तो कहीं शारीरिक उत्पीडऩ की घटनाएं आए दिन सामने आ रही हैं। आंकड़ों पर भरोसा करें तो छेड़छाड़ के मामले में कानपुर प्रदेश के दूसरे पायदान पर है। यहां प्रतिदिन हर दो घंटे में छेड़छाड़ की शिकायत वूमेन हेल्पलाइन पर पहुंच रही है। महिला सुरक्षा के लिए सरकारी और गैर सरकारी तौर पर किए जाने वाले उपाय काम नहीं आ रहे हैं। ये केवल घटना होने के बाद ही सक्रिय होते हैं।

छेडख़ानी में 15 फीसदी बढ़ोत्तरी
महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए शुरू किए गए वूमेन हेल्पलाइन पर महिला, छात्राएं व किशोरियों ने छेड़छाड़ और अश्लीलता की शिकायतें दर्ज कराई हैं। इसमें सोशल साइट्स पर भी तंग करने के मामले शामिल हैं। सबसे अधिक छात्राएं छेड़छाड़ की शिकार हो रही हैं। आंकड़े बताते हैं कि शोहदे फोन पर, सोशल मीडिया पर और राह चलते छेडख़ानी कर रहे हैं। 2017 के आंकड़ों के मुकाबले 2018 में छेडख़ानी के 15 फीसदी मामलों में बढ़ोतरी हुई है। शहर के बाहरी इलाके जैसे कल्याणपुर, चकेरी, साउथ सिटी और घाटमपुर, सचेंडी में आंकड़ों के मुताबिक सबसे अधिक रेप की वारदातें हुईं हैं।

पति ने ही महिला सिपाही को मार डाला
नौबस्ता में 20 नवंबर 2018 की सुबह पति ने चापड़ मारकर महिला सिपाही की निर्मम हत्या कर दी थी। नौबस्ता खाड़ेपुर नई बस्ती निवासी शारदा भदौरिया (48) उन्नाव सदर कोतवाली में तैनात हेड कांस्टेबल के पद पर तैनात थी। अवैध संबंधों के शक में पति वीरेंद्र सिंह भदौरिया ने शारदा को चापड़ से काट डाला था। बेटे घर पहुंचा तो मां का रक्तरंजित शव देख हत्या की जानकारी पुलिस को दी थी।

मासूम को बंधक बनाकर की दरिंदगी
काकादेव नवीन नगर में साधना दीक्षित ने 14 साल की बच्ची को महीनों से घर में बंधक बनाए रखा। इतना ही नहीं काम में जरा सी भी लापरवाही होने पर उसे कुर्सी में बांधकर बेल्ट और डंडों से पीटा। दर्जनों जगह शरीर को गर्म सलाखों से दागा। इलाकाई लोगों की मदद से काकादेव पुलिस ने बच्ची को मुक्त कराया। आरोपित महिला के खिलाफ गंभीर धाराओं में रिपोर्ट दर्ज करके उसे गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस अब उसके परिजनों की तलाश में जुटी है, लेकिन कोई संपर्क नहीं हो पा रहा है।

रेप में शहर सबसे ऊपर
शहर में छेडख़ानी के मामले में प्रदेश में कानपुर दूसरे नंबर पर है तो रेप के मामले भी कम नहीं हैं। शहर में छेड़छाड़, रेप, महिलाओं से टप्पेबाजी और साइबर ठगी जोन के सभी जिलों में सबसे अधिक होती है। सबसे अधिक छात्राओं ने छेडख़ानी के मामले दर्ज कराए हैं। जबकि रेप के मामलों की पड़ताल में आया कि आधे से अधिक मामलो में शादी का झांसा देकर लड़कियों और महिलाओं के साथ यौन शोषण किया गया। आंकड़ों की मानें तो रेप के मामले में हर वर्ष बढ़ोतरी हो रही है।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned