शराब के चलते सड़क पर उतरीं महिलाएं, रिहायशी इलाकों में फिर शुरू हो गए मयखाने

शराब के चलते सड़क पर उतरीं महिलाएं, रिहायशी इलाकों में फिर शुरू हो गए मयखाने

Nitin Srivastva | Updated: 01 Apr 2018, 08:09:14 AM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

सीओ राजेश पाण्डेय ने महिलाओं को आश्वासन दिया कि जल्द ही वहां से शराब की दुकान हटवा दी जाएंगी...

कानपुर. योगी सरकार ने शराब की सरकारी दुकानों का आवंटन कर दिया, जिसके कारण कारोबारी मयखानों को अब एक अप्रेल से रहायशी इलाकों में सचांलित करेंगे। इसी के कारण शनिवार को सैकड़ों की संख्या में महिलाएं सड़क पर उतर आई और हाईवे में बैठकर जाम लगा दिया। सूचना पर पहुंची पुलिस महिलाओं को जाम खोलने और शांत कराने की कोशिश की तो पह भड़क गई और पुलिस के साथ हाथा-पाई करने लगीं। महिलाओं का गुस्सा देख पुलिस को अपने पैर पीछे खीचने पड़े। महिलाओं ने कहा कि कल्याणपुर स्थित बस्ती के अंदर शराब की दुकान खोली जा रही है। जिसके चलते अराजकतत्व महिलाओं और छात्राओं के साथ छेड़छाड़ कर उन्हें परेशान करेंगे। महिलाओं ने कहा कि जब तक शराब की दुकान वहां से नहीं हटेगी, हमलोग ऐसे ही प्रदर्शन करते रहेंगे। सीओ राजेश पाण्डेय ने महिलाओं को आश्वासन दिया कि जल्द ही वहां से शराब की दुकान हटवा दी जाएंगी। तब कहीं जाकर महिलाएं शांत हुई और जाम खोल दिया।

 

फिर वही हालात, अराजक तत्व करेंगे परेशान

कल्याणपुर थानाक्षेत्र के रिहायशी इलाके में पिछले साल यहां पर सरकारी शराब की दुकान चल रही थी। जहां जहां सुबह से लेकर देररात तक शराबियों का जमावड़ा लगा रहता था और वह महिलाओं के साथ ही छात्राओं के साथ छेड़छाड़ करते थे। पुलिस से शिकायत के बाद जब अरातकतत्वों के खिलाफ कार्रवाई नहीं हुई तो उस वक्त महिलाएं आज सड़क पर उतर आई थीं। जिसके बाद शासन-प्रशासन को रहवासी इलाकों से शराब की दुकानें हटानी पड़ी थीं। लेकिन नए आवंटन के बाद फिर से उसी जगह एक अप्रेल से शराब की दुकान खेलने की जानकारी जब महिलाओं को हुई तो वह उग्र हो गई और जमकर प्रदर्शन किया । कल्याणपुर हाईवे को जाम कर दिया, बीच सड़क पर बैठ गईं, जिसके कारण वाहनों की लंबी’लंबी कतारें लग गई। सूचना पर सीओ, एसओ पुलिसफोर्स के साथ मौके पर पहुंचे और महिलाओं को जाम खोले जाने को कहा। लेकिन वह नहीं मानी और पुलिस के साथ हाथा-पाई करने लगी। मामला बड़ता देख पुलिस को अपने पैर पीछे खीचने पड़े और शराब की दुकान हटाए जाने का आश्वासन देना पड़ा। ।तब गुस्साई महिलाएं शांत हुई और जाम हटा लिया।

 

सीएम भूल गए अपना वादा

प्रदर्शनकारी महिला उषा कुशवाहा ने बताया कि 2017 में बीजेपी सरकार सत्ता में आई। तब हमलोगों ने रहवासी इलाकों से शराब की दुकानें हटाए जाने को लेकर प्रदर्शन किया था। बवाल के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ने रहवासी इलाकों से शराब की दुकानें हटाए जाने का आदेश दिया था। लेकिन राजस्व बढ़ोत्तरी के चक्कर में सरकार अपना वायदा भूल गयी । अब नये आवण्टन के तहत कल पहली अप्रैल से कई रिहायशी इलाको दुकाने अस्तित्व में आ जायंगी। इसके बिरोध के चलते कल्याणपुर इलाके में सैकड़ों महिलाये अपने बच्चो को लेकर सड़क पर उतर आयी और उन्होंने यातायात अवरुद्ध कर दिया। पुलिस प्रदर्शनकारियों को समझाने पहुंची तो उनसे झड़प तक हो गयी। प्रदर्शनकारियों का कहना है कि शराब ठेका खुलने से अश्लील हरकते होंगी इस लिए शराब ठेका खुलने नहीं दिया जाएगा।

 

मकान मलिक के घर पर किया पथराव

महिलाओं द्धारा धमकी देने का आरोप लगाए जाने पर जब मकान मालिक कमलेश कुमार से बात की गयी तो उसका जवाब था कि किसी को कोई धमकी नहीं दी है। इन लोगो ने मेरे घर पर पथराव किया और फर्नीचर तोड़ डाला। वहीं प्रदर्शनकारी महिलाओं का कहना है की जिसके मकान में ठेका खुल रहा है वह धमकी दे रहा है लेकिन हम लोग धमकी से नहीं डरेंगे और ठेका नहीं खुलने देंगे। और हंगामे की सूचना पर कल्याणपुर पुलिस थाने की फोर्स के साथ सीओ भी मौके पर पहुंचे और प्रदर्शनकारी महिलाओं को समझाया। सीओ का कहना है कि क्षेत्रवासियो ने शराब ठेका खोले जाने की शिकायत की है। प्रदर्शनकारियों को समझाया गया है की आपकी बात को सम्बंधित बिभाग को बताया जाएगा और तीन दिनों में इसका निस्तारण किया जाएगा।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned