कई गांव में यमुना और सेंगुर का मंडराया खतरा, बाढ़ के बन रहे हालात, अफसरों ने किया निरीक्षण

एसडीएम और तहसीलदार ने बाढ़ क्षेत्रो का निरीक्षण किया, लोगों को हर मदद देने का भरोसा दिलाया है।

By: Arvind Kumar Verma

Published: 26 Aug 2020, 10:40 PM IST

कानपुर देहात-जनपद में यमुना और सेंगुर नदी का जलस्तर तेजी के साथ बढ़ना शुरू हो चुका है। बाढ़ से दर्जनों गांवों का संपर्क मार्ग का आवागमन बन्द हो गया है। लोगो को आने जाने में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। बाढ़ आने से लोगो में इस समय डर का माहौल है। वहीं जिला प्रशासन भी बाढ़ वाले क्षेत्र में मुस्तैद नजर आ रहा है और बाढ़ से निपटने के लिये चौकी और नांव की व्यवस्था तैयार कर ली है। आज एसडीएम और तहसीलदार ने बाढ़ क्षेत्रो का निरीक्षण किया। वहीं लोगों को हर मदद देने का भरोसा दिलाया है।

ये हैं गांव के हालात

दरअसल कानपुर देहात से गुजरी यमुना और सेंगुर नदी में तेजी के साथ जलस्तर बढ़ रहा है। जिसके चलते मूसानगर क्षेत्र में बाढ़ के कारण कई गाँवों का आवागमन बन्द हो गया है। आड़न पथार को जाने वाले रास्ते की पुलिया बाढ़ के पानी से डूब गई है। लोग पानी से होकर निकल रहे हैं और उनके जानवर भी पानी में तैरते हुए निकल रहे हैं बाढ़ के आने से लोगों की समस्यायें बढ़ गयी हैं।

बाढ़ को लेकर ग्रामीण बोले

वहीं गाँव के ग्रामीणों ने बताया कि यमुना और सेंगुर नदी में बाढ़ आ गयी है। यमुना और सेंगुर का पानी लगातार तेजी से बढ़ रहा है। हर साल बाढ़ आने से हम लोगों के घर डूब जाते हैं। फसले बर्बाद हो जाती हैं। कई गाँवों का आवागमन बन्द हो गया है। आज एसडीएम और तहसीलदार निरीक्षण करने आये थे।

तहसील अफसरों ने किया निरीक्षण

वहीं भोगनीपुर तहसील के एसडीएम राजीव राज और तहसीलदार बाढ़ के हालातों को जायजा लेने के लिये मौके पर पहुँचे और बाढ़ को देखते हुए बाढ़ चौकियां बनाकर तैनात कर दी हैं। साथ ही लेखपालों और ग्रामीणों से बात कर एलर्ट रहने को कहा है। साथ ही पानी अधिक बढ़ने पर लोगो के आने जाने के लिये नांव की व्यवस्था करा दी गयी है।

Show More
Arvind Kumar Verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned