खाना नहीं मिला तो युवक ने कुल्हाडी से मंदिर के महंत को काट डाला

खाना नहीं मिला तो युवक ने कुल्हाडी से मंदिर के महंत को काट डाला
Saint Murder

Abhishek Gupta | Publish: Dec, 22 2016 11:39:00 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

गुनाह सिर्फ इतना था कि खाना खत्म हो गया था। बस इतनी सी बात से क्षुब्ध होकर युवक ने हाथ में पकड़ी कुल्हाडी से मंदिर के तख्त पर बैठे महंत पर वार कर दिये जिससे महंत की गर्दन धड़ से अलग हो गयी और खून के छींटे मंदिर के परिसर मे फैल गये। 

कानपुर देहात. गुनाह सिर्फ इतना था कि खाना खत्म हो गया था। बस इतनी सी बात से क्षुब्ध होकर युवक ने हाथ में पकड़ी कुल्हाडी से मंदिर के तख्त पर बैठे महंत पर वार कर दिये जिससे महंत की गर्दन धड़ से अलग हो गयी और खून के छींटे मंदिर के परिसर मे फैल गये। महंत की नृशंस हत्या करने के बाद ने साक्ष्य मिटाने के उद्देश्य से शव को खींचकर मंदिर के पीछे गहरी खाई मे फेंक दी। मौके पर मौजूद महंत के दो साथी युवक का भयावह रूप देख उल्टे पैर भाग खड़े हुये और समीप के खल्ला गांव में जाकर अपनी जान बचाई और ग्रामीणों को पूरी बात बताई। 

ग्रामीणों ने पुलिस को सूचना करते हुये दोनों युवकों को ढांढस बंधाया। जिसके आद पुलिस महकमे में हडकम्प मच गया। थोड़ी ही देर में पुलिस कप्तान, एएसपी, पुलिस क्षेत्राधिकारी, प्रभारी निरीक्षक सहित कई थानों की फोर्स घटनास्थल पर पहुंच गयी और दोनों युवकों से पूछ्ताछ कर आरोपी युवक की तलाश की। कड़ी मशक्कत के बाद पुलिस ने युवक को हिरासत में लेते हुये शव को पोस्टमार्टम के लिये भेज दिया है।

क्या है पूरा मामला
थाना डेरापुर क्षेत्र के खल्ला गांव से कुछ दूरी पर सेंगुर नदी किनारे मुकुंदपुरी काफी मंदिर है। जिसकी देखरेख के लिये गौरीडाडा भोगनीपुर के महंत विशम्भर गिरि व उनके साथी ठेनामऊ मंगलपुर निवासी रामगिरि मंदिर परिसर में ही रहते हैं। अपने बहनोई के यहाँ सनिहापुर गांव में रह रहा 80 वर्षीय भगौती प्रसाद पुत्र होरीलाल करीब 8 माह पूर्व एक कुटिया में रहने लगा और मंदिर की सेवा में लग गया। बीती रात विशम्भर, रामगिरि व भगौती प्रसाद खाना खाने के बाद मंदिर के परिसर में आग जलाकर ताप रहे थे।

एक के बाद एक वार किये
बताया जाता है कि रतनियापुर गांव निवासी वीर अभिमन्यु उर्फ सोनू ठंड होने के चलते उसी मंदिर परिसर मे हाँथ मे कुल्हाडी लिये आ धमका और आग जलाकर तापने लगा। एकाएक उसने महंत भगौती प्रसाद से खाने के लिये खाना मांगा तो महंत ने खाना खतम होने की बात कही। जिस पर नाराज होकर युवक ने तीनो को जान से मारने की बात कही और अचानक दौडा लिया। जिस पर विशम्भर गिरि और रामगिरि उल्टे पैर भाग खडे हुये। लेकिन तख्त पर बैठे भगौती प्रसाद जैसे ही भागने लगे तभी वीर अभिमन्यु ने कुल्हाडी से महंत की गर्दन मे वार कर दिया। पल भर मे महंत की मौके पर मौत हो गयी। दोनो साथी युवक का क्रूर रूप देख वहाँ से भाग कर खल्ला गांव पहुंचकर जान बचाई। जिसके बाद आरोपी ने शव को खींचकर पीछे खाई मे फेंक दिया और नीचे नदी के पास बैठकर तापने लगा।

पुलिस ने की हवाई फायर तब चढा हत्थे
घटना की सूचना मिलते ही पुलिस महकमे मे हडकम्प मच गया। पुलिस के शव के खींचे जाने के निशान को देखते हुये शव को तलाशा लेकिन पता न चला। देर रात नदी किनारे आग की रोशनी देख पुलिस ने दबोचने की कोशिश की, लेकिन आरोपी चकमा दे गया। जिसके बाद पुलिस ने जंगल मे तलाश शुरू की। तभी कुछ दूरी पर आग जलाकर लेटे हुये देखे जाने पर पुलिस ने घेराबंदी की, लेकिन सतर्क आरोपी नदी मे कूद गया। पकडने की फिराक मे पुलिस ने भी नदी मे छलांग लगा दी और भागने लगा। हालांकि पुलिस ने हवाई फायरिंग भी की। तभी सामने से एक सिपाही ने उसे धर दबोचा। गिरफ्त मे आये आरोपी युवक की निशानदेही पर हत्या मे प्रयुक्त कुल्हाडी सहित शव को बरामद किया गया।

प्रभारी निरीक्षक फाजिल सिद्दीकी ने बताया कि आरोपी को गिरफ्तार कर हत्या के प्रयोग मे लाई गयी कुल्हाडी बरामद की गयी है। मृतक के भांजे इंद्रपाल की तहरीर पर आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जेल भेजा गया है।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned