पत्नी को मायके लेने गए युवक को बनाया बंधक, दहेज के बदले मांगे रुपए, जानकारी पर पहुंचे सिपाहियों से की अभद्रता

घटना की जानकारी पर पहुंचे दो सिपाही युवक को छुड़ाने गए थे तो उस दौरान ससुरालियों ने उनके साथ भी जमकर अभद्रता की।

By: Arvind Kumar Verma

Updated: 21 Feb 2021, 11:55 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

कन्नौज. ससुरालियों के कहने पर पत्नी को विदा कराने दामाद को ससुरालियों ने बंधक बना लिया। इस दौरान दहेज में दिए गए सामान के बदले मे छह लाख रुपए की मांग की गई। घरवालों के आने पर उनसे भी बदतमीजी की गई। घटना की जानकारी पर पहुंचे दो सिपाही युवक को छुड़ाने गए थे तो उस दौरान ससुरालियों ने उनके साथ भी जमकर अभद्रता की। बाद में प्रभारी निरीक्षक फोर्स के साथ पहुंचे और युवक को मुक्त कराया। जिसके बाद पुलिस ने पत्नी, ससुर व साले का हिरासत में लिया। तहरीर मिलने पर अग्रिम कार्यवाही की जाएगी।

पूरा मामला जनपद औरैया के थाना दिबियापुर के गांव पुर्वा जोरन का है, जहां गांव निवासी हरि सिंह उर्फ मोनू ने बताया कि उनकी शादी 13 मई 2019 को कन्नौज जनपद के थाना सौरिख क्षेत्र के ग्राम ककरैया निवासी राधा कृष्ण की बेटी कंचन के साथ हुई थी। बेटी पैदा होने पर झगड़ा होने लगा। शनिवार को विवाद होने पर कंचन मायके चली आई। कंचन के पिता ने उन्हें फोन कर विदा कराने के लिए गांव बुलाया। उसी दिन वह गांव पहुंचे तो पत्नी, ससुर, सास व सालों ने बंधक बनाकर मारपीट करते हुए देखा। दहेज में दी गई बाइक व अन्य सामान के बदले में छह लाख रुपये मांगे और पत्नी से छुटकारा देने की बात कही।

इसके बाद रात भर पुलिस को जानकारी नहीं दी गई। रविवार को घर रुपये मंगाने के लिए फोन कराया। इस पर चाचा अतर सिंह ग्रामीणों के साथ गांव पहुंचे। हरि को छुड़ाने की बात कही। चाचा समेत अन्य लोगों से ससुरालियों ने अभद्रता की। चाचा ने नादेमऊ चौकी पुलिस को जानकारी दी। वहां से देरशाम दो सिपाही गांव पहुंचे, जिनसे अभद्रता की गई। सिपाहियों की सूचना पर प्रभारी निरीक्षक विजय बहादुर वर्मा पुलिस फोर्स के साथ गांव पहुंचे। काफी प्रयास के बाद युवक को छुड़ाया। साथ ही पत्नी, ससुर व साले को हिरासत में ले लिया। प्रभारी निरीक्षक ने बताया कि तहरीर मिलते ही मुकदमा दर्ज करेंगे।

Show More
Arvind Kumar Verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned