भुगतान को भटके लाभार्थी, जांच की मांग

करौली. मण्डरायल पंचायत समिति की महाराजपुरा पंचायत के कानरदा के ग्रामीणों ने मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेज (Beneficiary lost payment) शौचालयों का निर्माण कराने वाले लाभार्थियों को भुगतान दिलाने की मांग की है।

करौली. मण्डरायल पंचायत समिति की महाराजपुरा पंचायत के कानरदा के ग्रामीणों ने मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेज (Beneficiary lost payment) शौचालयों का निर्माण कराने वाले लाभार्थियों को भुगतान दिलाने की मांग की है। ज्ञापन में बताया कि तीन साल पहले पंचायत के ग्रामीणों ने सरकार की योजना के तहत शौचालयों का निर्माण कराया था, लेकिन उन्हें अभी तक निर्माण के बदले अनुदान राशि का भुगतान नहीं मिला है। ज्ञापन में बताया कि शौचालय के अलावा अन्य निर्माण कार्य के लाभार्थी व मजदूर भी भुगतान के लिएभटकने को मजबूर है। जिला परिषद के अधिकारियों को मामले से अवगत कराने की बाद भी ग्रामीणों की समस्याओं का समाधान नहीं हुआ है। ज्ञापन में राष्ट्रीय महात्मा गांधी रोजगार गारंटी योजना के कार्यों का फर्जीवाड़े से भुगतान उठाने का आरोप भी पंचायत के जिम्मेदार कर्मचारियों पर लगाया है।ज्ञापन देने वालों में वीरबल गुर्जर, शम्भु सिंह, मदन गुर्जर, करण सिंह, नाथू मीना व अन्य शामिल थे।


जांच की मांग
करौली. मासलपुर के लोगों ने जिला प्रमुख को ज्ञापन सौंप पट्टा वितरण प्रणाली में भ्रष्टाचार का आरोप लगाके जांच की मांग की है।ज्ञापन में बताया कि मासलपुर में जमीन का पट्टा नहीं होने के बाद भी पंचायत ने आबादी क्षेत्र में २५ बीघा भूमि में पट्टे फर्जीवाड़े से जारी कर दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि मासलपुर पंचायत के रोहर गांव में पशु चराने के लिएखिरखारी प्राचीनकाल से बनी हुई है।आरोप है कि खिरखारी पर भी पंचायत ने पटटे जारी कर दिए गए हैं। ज्ञापन में पट्टे जारी करने के मामले की जांच की मांग की है। ज्ञापन देने वालों में पंचायत समिति सदस्य शिम्भु मीना, पूरन मीना, मेघसिंह गुर्जर, श्योदान सिंह, सियाराम मीना आदि मौजूद थे।

vinod sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned