कोरोना वायरस: बिना सुरक्षा संसाधनों के कार्य में जुटे हैं शिक्षक

करौली. कोरोना वायरस की महामारी से निपटने के लिए सरकार और जिला प्रशासन पूरी तरह मुस्तैद हैं,

By: Dinesh sharma

Updated: 04 Apr 2020, 08:03 PM IST

करौली. कोरोना वायरस की महामारी से निपटने के लिए सरकार और जिला प्रशासन पूरी तरह मुस्तैद हैं, वहीं आमजन की ओर से भी संकट की इस घड़ी में जरुरतमंदों के लिए हर संभव मदद की जा रही है, लेकिन इस इसके बीच फील्ड में कार्य कर रहे कार्मिकों की सुरक्षा को लेकर अभी भी सुरक्षा संसाधनों का टोटा है।

कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने की खातिर स्क्रीनिंग, सर्वे और होम आइसोलेशन वाले व्यक्ति की निगरानी के लिए तैनात कार्मिक आधी-अधूरी सुरक्षा के बीच ही कार्य कर रहे हैं। फील्ड में कार्यरत शिक्षक संगठनों की ओर से इस बारे में लगातार जिला प्रशासन को अवगत कराया जा रहा है। उनका कहना है कि मास्क, सेनेटाइजर उपलब्ध नहीं हो पाए हैं।

ऐसे में वे अपने स्वास्थ्य को लेकर आशंकित हैं। होम आइसोलेशन वाले व्यक्ति की निगरानी में लगाए गए अनेक शिक्षकों ने बताया कि उन्हें ना मास्क मिला है और ना ही सेनेटाइजर, ऐसे में उन्हें भी स्वास्थ्य को लेकर चिंता बनी रहती है। इस संबंध में शिक्षकों की ओर से शिक्षाधिकारियों एवं प्रशासनिक अधिकारियों को अवगत भी कराया, लेकिन अब तक यह सामग्री उन्हें नहीं मिल पाई है।


सुरक्षा संसाधनों को लेकर शिक्षक संगठनों की ओर से जिला कलक्टर को ज्ञापन भी सौंपे गए हैं। राजस्थान शिक्षा सेवा प्राध्यापक संघ रेसला की ओर से सौंपे ज्ञापन में बताया कि कोरोनो वायरस को लेकर शिक्षक की सर्वे और होम आइसोलेशन के लिए ड्यूटी लगाई गई है, लेकिन उन्हें सुरक्षात्मक उपकरण ही उपलब्ध नहीं है। ऐसे में वे स्वास्थ्य को लेकर आशंकित हैं। संघ के जिलाध्यक्ष लखनलाल मीना, जिला संरक्षक दिनेश मीना, जिला मंत्री मुकट सिंह गुर्जर सहित अन्य पदाधिकारियों ने यह ज्ञापन सौंपा। इससे पहले पहले राजस्थान शिक्षक संघ सियाराम की ओर से भी इस संबंध में जिला कलक्टर को ज्ञापन सौंपा गया था, जिसमें उन्होंने शिक्षकों को मास्क, सेनेटाइजर उपलब्ध नहीं होने पर नाराजगी जताई थी। करौली शहरी क्षेत्र हो या ग्रामीण इलाका हर जगह मास्क-सेनेटाइजर की स्थिति कमोबेश यही स्थिति है।


इसी क्रम में करौली शिक्षा परिवार के संयोजक शान्तनु पाराशर ने बताया कि कोरोना वायरस से आई संकट की घड़ी में सभी शिक्षक सरकार व प्रशासन के निर्देशों का पूरी जिम्मेदारी से पालन कर रहे हैं और आगे भी करेंगे, लेकिन कोरोना जैसी संक्रामक गम्भीर बीमारी से सुरक्षा -बचाव सामग्री मास्क व सेनेटाइजर नहीं मिले हैं। ऐसे में सर्वे कार्य और होम आइसोलेशन वाले व्यक्तियों की निगरानी में लगाए गए सभी शिक्षकों को सुरक्षा सामग्री मिलने से वे अपना बचाव कर सकेंगे।
इधर मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी गणपत लाल मीना का कहना है कि इस बारे में जिला कलक्टर को अवगत कराया है। जिले में जितने भी शिक्षकों की ड्यूटी इस कार्य में लगाई गई है, उनकी सूचना एकत्रित की जा रही है।

Dinesh sharma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned