हिण्डौनसिटी. उपखंड मुख्यालय समेत आसपास के इलाकों में बिजली का करंट लगने के कई हादसे हुए। इन हादसों में कई लोगों की जान तक चली गई। गर्मी और बरसात में इसका खतरा और अधिक बढ़ जाने के बाद भी विद्युत वितरण निगम लिमिटेड इसके प्रति लापरवाह नजर आ रहा है।

शहर में कई जगह झूलती हुई बिजली की लाइनें कभी भी बड़े हादसे का कारण बन सकते हैं।
जयपुर विद्युत वितरण निगम लिमिटेड के उपभोक्ताओं को बिजली उपभोग के बेतरतीब बिल दिए जाने के बावजूद उनकी सुरक्षा को लेकर लापरवाही बरती जा रही है।

गर्मी शुरू होने के बावजूद विभाग ने जगह जगह नीचे की तरफ लटक रहे बिजली के तारों को सही नहीं करवाया है। कई जगह तार लटके हुए हैं तो कर्ई जगह बिजली के ट्रांसफार्मर में लगे तारों में इनसुलेटर तक नही लग रहे हैं। पोल खुलने के भय से निगम अभियंता जी चाहे तब बिजली आपूर्ति बंद कर देते है। इससे लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ता है।

बाजारों से लेकर खेतों तक खतरा-
शहर की विभिन्न कॉलोनियों और बाजारों से लेकर ग्रामीण क्षेत्र में खेतों के अलावा गलियों, मोहल्लों में मकान और दुकानों की छतों एवं बालकनियों के समीप बिजली की लाइने काफी नीचे झूल रहीं हंै। जिनसे हर समय हादसा होने का अंदेशा बना रहता है।

शुल्क जमा, फिर भी इंतजार
नगरपरिषद द्वारा अनुमोदित कई कॉलोनियों में बिजली की लाइनों के आसपास मकान बन गए हंै। यहां के निवासी विकास शुल्क जमा करवाने के बावजूद बिजली की लाइनों को अन्यत्र शिफ्ट होने का इंतजार कर रहे हैं।

यहां हर समय लगा रहता डर-
शहर में डेंपरोड, शीतला चौराहा, दांतरापाडा, खरेटा रोड़, बयाना मोड़ व कृष्णा कॉलोनी के अलावा विभिन्न गली मोहल्लों के अन्दर ऐसे कई मकान है। जिनकी छतों के ऊपर से बिजली की लाइनें व तार झूल रहे हैं। चौराहों, सार्वजनिक स्थलों के पास व आम रास्तों के नजदीक खुली जगह बिजली के ट्रांसफॉर्मर लगे हुए हैं। इन ट्रांसफॉर्मरों से निकले तारों के ज्वाइंट पर कई जगह सुरक्षा कवच भी नहीं लगे हुए है। जिससे यह दुर्घटनाओंं को खुला आमंत्रण दे रहे हैं।


इनका कहना है-
झूलती बिजली की लाइनों का आवश्यक रखरखाव कराया जाता है। इसके बावजूद यदि कुछ जगह समस्या है तो उसे सही करवा दिया जाएगा।-
-रुपसिंह जाटव, अधिशासी अभियंता, विद्युत निगम, हिण्डौनसिटी।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned