चौकी को थाने में क्रमोन्नत करने की मांग अधूरी

चौकी को थाने में क्रमोन्नत करने की मांग अधूरी
दो साल पहले भेजे जा चुके हैं प्रस्ताव
करौली जिले में सपोटरा उपखंड के व्यापारिक गतिविधि प्रधान नारौली कस्बे में पुलिस चौकी को थाने में क्रमोन्नत करने की लंबे समय से चली आ रही मांग अभी पूरी नहीं हो सकी है। इस बारे में 2 साल पहले जिला पुलिस अधीक्षक कार्यालय से पुलिस मुख्यालय को प्रस्ताव भेजे जा चुके हैं। इसमें इलाके की भौगोलिक स्थिति व अपराधों पर अंकुश लगाने की दृष्टि से नारौली पुलिस चौकी को थाने में तब्दील करने की आवश्यकता बताई है।

By: Surendra

Published: 05 Feb 2021, 07:55 PM IST

खुले थाना तो लगे समाजकटंकों पर लगाम
चौकी को थाने में क्रमोन्नत करने की मांग अधूरी
दो साल पहले भेजे जा चुके हैं प्रस्ताव
नारौली डांग। सपोटरा उपखंड के व्यापारिक गतिविधि प्रधान नारौली कस्बे में पुलिस चौकी को थाने में क्रमोन्नत करने की लंबे समय से चली आ रही मांग अभी पूरी नहीं हो सकी है।
जबकि इस बारे में 2 साल पहले जिला पुलिस अधीक्षक कार्यालय से पुलिस मुख्यालय जयपुर को प्रस्ताव भेजे जा चुके हैं। इसमें इलाके की भौगोलिक स्थिति व अपराधों पर अंकुश लगाने की दृष्टि से नारौली डांग में संचालित पुलिस चौकी को थाने में तब्दील करने की आवश्यकता बताई गई है।
इस मांग को लेकर परशुराम सेना के जिलाध्यक्ष कुलदीप शर्मा ने मुख्यमंत्री को ज्ञापन भी भेजा है। इसमें बताया है कि यह प्रस्तावित थाना क्षेत्र सपोटरा थाने से करीब 12 किमी दूर स्थित है। सपोटरा थाने के अधीन ही नारौली डांग में चौकी आती है। इस चौकी के कार्यक्षेत्र में सात ग्राम पंचायत जाखोदा, भरतून, चौड़ागांव, औड़च, खेड़ला, जीरौता व नारौली डांग सहित करीब तीन दर्जन गांव हैं। ज्ञापन में बताया गया है कि इस इलाके में आपराधिक गतिविधि अधिक होती हैं और समाज कटंक भी सक्रीय आधिक रहते हैं। नारौली के लिए सपोटरा से पक्की सड़क नारौली डांग चौकी को जाती है। नारौली के समीप में ही दिल्ली-मुंबई बड़ी रेलवे लाइन के बीच नारायणपुर टटवाड़ा रेलवे स्टेशन है। इस रेल मार्ग के जरिए आपराधिक प्रवृत्ति के लोग जिले से भाग जाते हैं और अन्य जिले के बदमाश यहां आसानी से आ जाते हैं।
यह भी उल्लेख किया है कि नारौली डांग क्षेत्र में बड़ी घटना होने पर सपोटरा थाने से पुलिस को आने में काफी समय लगता है। इस चौकी के इलाके में सिलिका सैंड की खदाने संचालित होने से अपराधियों की गतिविधि ज्यादा है। इस क्षेत्र में बजरी माफिया भी सक्रीय हैं। ज्ञापन में ग्रामीणों ने बताया है कि इस बारे में जनप्रतिनिधियों सहित अधिकारियों से लगातार मांग करने के बाद भी चौकी को क्रमोन्नत नहीं किया गया है।

Surendra Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned