एनजीटी में लम्बित प्रकरण का हुआ निस्तारण

करौली/कैलादेवी . कैलादेवी आस्थाधाम की पवित्र नदी के प्रदूषण को लेकर राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण (नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल कोर्ट) भोपाल में लम्बित यचिका का निस्तारण कर दिया गया है। इस मामले में एनजीटी में प्रशासन ने अवगत कराया कि नदी के रास्ते में आ रहे अतिक्रमणों व अन्य बाधाओं को हटा दिया है। इस पर अन्य किसी पक्ष ने आपत्ति नहीं जताई। इसके बाद कोर्ट ने मूलसिंह व अन्य बनाम भारत संघ के नाम से इस लम्बित इस याचिका का निस्तारण मान लिया है।

By: Surendra

Published: 01 Mar 2020, 08:41 PM IST


कालिसिल नदी के प्रदूषित होने का मामला
कैलादेवी के लोगों ने जताई खुशी
करौली/कैलादेवी . कैलादेवी आस्थाधाम की पवित्र नदी के प्रदूषण को लेकर राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण (नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल कोर्ट) भोपाल में लम्बित यचिका का निस्तारण कर दिया गया है। इस मामले में एनजीटी में प्रशासन ने अवगत कराया कि नदी के रास्ते में आ रहे अतिक्रमणों व अन्य बाधाओं को हटा दिया है। इस पर अन्य किसी पक्ष ने आपत्ति नहीं जताई। इसके बाद कोर्ट ने मूलसिंह व अन्य बनाम भारत संघ के नाम से इस लम्बित इस याचिका का निस्तारण मान लिया है। कोर्ट ने कहा है कि पर्यावरण या अन्य किसी मुद्दे को लेकर कोई दिक्कत है तो नए सिरे से याचिका लगाई जा सकती है। इस मामले का निस्तारण होने पर कस्बे में खुशी की लहर दौड़ गई।
उल्लेखनीय है कि एनजीटी कोर्ट भोपाल में लम्बित इस याचिका के चलते एनजीटी के आदेश से कैलादेवी क्षेत्र में पट्टे व रजिस्ट्री तथा नए निर्माण पर रोक लगी हुई थी। इस कारण से कैलादेवी के लोग परेशान हो रहे थे। निर्माण कार्य से जुड़े मजदूरों के काम की तलाश पलायन करने तक की नौबत आ गई थी। इस प्रकरण के निस्तारण से लोगों में खुशी छा गई । लोगों ने मिठाई बांटकर खुशी जताई।
कैलादेवी के उपसरपंच राधेश्याम माली ने बताया कि इस मामले में कैलादेवी के लोग काफी परेशान थे। इसके निस्तारण कराने में और आमजन की मदद करने में खाद्य मंत्री रमेशचंद मीणा की प्रभावी भूमिका रही। इस कारण कैलादेवी के श्रीफूल बैरवा, चरणलाल ठेकेदार, राधेश्याम मीना, भैरौलाल मीना आदि ने मंत्री रमेशचंद मीणा के पास जयपुर जाकर आभार भी जताया।

Surendra Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned