राजस्थान में चुनाव ड्यूटी इनको किया बाहर ..... जानिए कौन हैं और क्यों हुए बाहर


Election duty was carried out in Rajasthan ..... know who is there and why were out

60 साल में पहली बार चुनाव ड्यूटी से हटाए होमगार्ड, -पुलिस पर बढ़ा शांति व्यवस्था व सुरक्षा का भार

हिण्डौनसिटी. आपने यह तो सुना होगा कि ऐसा पहली बार हुआ है सतराह-अठराह सालों में। लेकिन राजस्थान में बीते 60 वर्षों में ऐसा पहली बार हुआ है कि जब चुनावों में होमगार्डों को ड्यूटी पर नहीं लगाया है। पंचायत राज चुनावों में सरकार के आदेश की पालना में अकेले करौली जिले में 335 होमगार्डों की ड्यूटी लगाई गई, लेकिन वित्तीय स्वीकृति नहीं मिलने के कारण तत्काल ही उनकी ड्यूटी निरस्त कर दी गई। ऐसे में सुरक्षा व शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए पूरा भार पुलिस के कांधो पर आ गया है। इसे देखते हुए जिले में 1417 पुलिस कर्मियों की चुनाव ड्यूटी लगाई है।

जानकारी के अनुसार विगत 10 जनवरी को सरकार ने आदेश जारी कर प्रदेश में होमगाड्र्स व बोर्डर होमगाड्र्स नियोजित करने के लिए निर्देश दिए थे। आदेश की पालना में होमगार्ड के डिप्टी कमांडेन्ट पूरनमल टोलिया ने जिले में 335 होमगार्डों की ड्यूटी लगा कर उन्हें 13 जनवरी को उपस्थिति देने के निर्देश दिए। लेकिन सरकार के वित्त विभाग की ओर से अनुमति नहीं मिलने के कारण होमगार्डों को चुनाव ड्यूटी से हटा दिया।

440 की नफरी है करौली जिले में-
सूत्रों के अनुसार करौली जिले में होमगार्ड के 440 जवानों की नफरी है। इनमें से 335 होमगार्डों को पंचायत चुनावों की व्यवस्था के मद्देनजर 13 जनवरी से 3 फरवरी तक ड्यूटी पर लगाया था।

ड्यूटी लगाई थी, आदेश के बाद हटा दी-
पंचायत चुनाव में 335 होमगाड्र्स की ड्यूटी लगाई थी। लेकिन सरकार की ओर से वित्तीय स्वीकृति जारी नहीं होने से इनकी ड्यूटी के लिए मनाही हो गई। इसलिए होमगार्डों की ड्यूटी निरस्त कर दी है।

-काडूराम मीणा, एसआई, होमगाड्र्स, करौली।

Anil dattatrey Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned