scriptEntered the war as soon as he was recruited in the army, the terrorist | सेना में भर्ती होते ही युद्ध में उतरे,उग्रवादियों को भी किया ढेर | Patrika News

सेना में भर्ती होते ही युद्ध में उतरे,उग्रवादियों को भी किया ढेर

Entered the war as soon as he was recruited in the army, the terrorists were also piled up dead

-थलसेना अध्यक्ष से सम्मानित हुए कैप्टन सुमेर

थल सेना दिवस पर विशेष

करौली

Published: January 15, 2022 10:54:43 am

हिण्डौनसिटी. समीप के गांव महमदपुर निवासी सुमेरसिंह की सैन्य सेवा की शुरूआत युद्ध के मैदान से हुई। पचास साल पहले सेन्य प्रशिक्षण पूरा करते ही पाकिस्तान के साथ हुई 1971 की लड़ाई में उन्होंने सरहद पर शौर्य का प्रदर्शन किया। बाद में आंतरिक सुरक्षा में सेना के राष्ट्रीय राइफल्स में तैनात रह उग्रवादियों को ढेर किया। सीमा और आंतरिक सुरक्षा में बटालियन के श्रेष्ठ कार्य के लिए कैप्टन सुमेर सिंह को वर्ष 2003 में थल सेना दिवस पर तत्कालीन सेनाध्यक्ष जनरल एन.सी.विज द्वारा सम्मानित किया गया।
सेना में भर्ती होते ही युद्ध में उतरे,उग्रवादियों को भी किया ढेर
हिण्डौनसिटी. नई दिल्ली में 2003 में हुए थलसेना दिवस के कार्यक्रम में सेनाध्यक्ष जनरल एन.सी.विज से सम्मानित होते केप्टन सुमेरसिंह(सेवाविृत)।

सेना से सेवानिवृति के बाद वर्धमान नगर में रह रहे कैप्टन सुमेरसिंह ने पत्रिका से बातचीत में बताया कि उनके परिवार में रियासत काल से ही सैन्य माहौल रहा है। उनके पिता रामेश्वर सिंह जयपुर रियासत की सेना में हवलदार रहे। जो बाद में भारतीय सेना की डीएससी (डिफेंंस सेफ्टी कोर) में शिफ्ट हो गए। ताऊ, भाई व गांव के अधिकांश युवाओं के सैनिक होने से वे भी जुलाई 1971 में सेना में भर्ती हुए। 22-राजपूत रेजीमेंट में सैन्य प्रशिक्षण पूर्ण ही हुआ था कि 3 दिसम्बर को पाकिस्तान से युद्ध की घोषणा हो गई। ऐसे में वे 15 राजपूत रेजीमेंट के साथ पाकिस्तानी सरहद पर फाजिल्का में तैनात हुए और युद्ध में हिस्सा लिया।
13 दिन के युद्ध के बाद एक वर्ष तक सिक्किम, चीन सीमा पर डोकलाम और फिर बद्री टॉप ग्लेसियर पर तैनात रहे। सुमेर सिंह ने बताया कि देश की आंतरिक सुरक्षा के लिए राजपूत रेजीमेंट की10-राष्ट्रीय राइफल्स व 19 राष्ट्रीय राइफल्स में 9 वर्ष तक तैनात रहे। इस दौरान जम्मू-कश्मीर व पंजाब में उग्रवादियों को आबादी क्षेत्रों में तलाश को मुठभेड़ में ढेर किया।
सुमेर सिंह बताते हैं कि सहरद पर दुश्मन से आमने सामने की लड़ाई होती है, लेकिन आंतरिक सुरक्षा में अपनों के बीच छिपे आतंकियों से लडाई में चारों ओर से चौकन्ना रहना पड़ता है। कश्मीर के डोडा सेक्टर के बटालियन उग्रवादियों को ढेर करने पर सूबेदार मेजर के तौर पर उन्हें तत्कालीन सेनाध्यक्ष जनरल एन.सी.विज द्वारा सम्मानित किया गया।
शांति में भी सरहद की सी दिनचर्या

हिण्डौनसिटी. भारतीय सेना के जवान की शांति में भी सरहद पर तैनाती जैसी दिनचर्या रहती है। श्रीलंका में शांति सेना के ऑपरेशन पवन में भागीदार रहे सूबेदार लखन सिंह ने बताया कि सीमा पर दुश्मन से चौकन्ना रहना पड़ता है। वहीं शांति क्षेत्र में सेहत और युद्धाभ्यास पर ध्यान दिया जाता है।
सूबेदार लखन सिंह ने पत्रिका को बताया कि आर्मी कैम्प में सैनिक सुबह 4.30 बजे जागते हैं। नित्य क्रिया से फ्री हो कर 6.30 बजे पीटी के लिए मैदान में पहुंचते हैं। 40 मिनट की पीटी के बाद 7.30 बजे नाश्ता और फिर 8.15 बजे से 12.30 बजे तक परेड़, दोपरह 12.30 से ढाई बजे तक भोजनावकाश, शाम 4.30 बजे से गेम परेड़ में खोखो व कबड्डी के खेल होते हैं। शाम 7 बजे एकत्रीकरण, रात आठ बजे खाना और 9 बजे सेना अधिकारी द्वारा अगले दिन के कार्यक्रम की घोषणा की जाती है। सूबेदार ने बताया कि सेना में मंगलवार को मंदिर में पूजा कार्यक्रम होते हैं। सेना के धर्मगुरु धर्मिक ग्रंथों से ओजस्वी प्रवचन देते हैं।
सेना में भर्ती होते ही युद्ध में उतरे,उग्रवादियों को भी किया ढेरसेना में भर्ती होते ही युद्ध में उतरे,उग्रवादियों को भी किया ढेर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

School Holidays in February 2022: जनवरी में खुले नहीं और फरवरी में इतने दिन की है छुट्टी, जानिए कितनी छुट्टियां हैं पूरे सालइन 4 तारीखों में जन्मी लड़कियां पति की चमका देती हैं किस्मत, होती है बेहद लकी“बेड पर भी ज्यादा टाइम लगाते हैं” दीपिका पादुकोण ने खोला रणवीर सिंह का बेडरूम सीक्रेटइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमीमां लक्ष्मी का रूप मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां, चमका देती हैं ससुराल वालों की किस्मतजैक कैलिस ने चुनी इतिहास की सर्वश्रेष्ठ ऑलटाइम XI, 3 भारतीय खिलाड़ियों को दी जगहकम उम्र में ही दौलत शोहरत हासिल कर लेते हैं इन 4 राशियों के लोग, होते हैं मेहनतीइन 4 नाम वाले लोगों को लाइफ में एक बार ही होता है सच्चा प्यार, अपने पार्टनर के दिल पर करते हैं राज

बड़ी खबरें

राहुल गांधी ने फॉलोवर्स सीमित होने पर Twitter पर लगाया सरकार के दबाव में काम करने का आरोप, जानिए क्या मिला जवाबकेरल और कर्नाटक में 50 हजार तक सामने आ रहे नए केस, जानिए अन्य राज्यों का हालटाटा ग्रुप का हो जाएगा अब एयर इंडिया, कर्मचारियों को क्या होगा फायदा और नुकसान?झारखंड में नक्सलियों ने ब्लास्ट कर उड़ाया रेलवे ट्रैक, राजधानी एक्सप्रेस सहित कई ट्रेनों का रूट बदलाBudget 2022: इस साल भी पेश होगा डिजिटल बजट, जानें कैसे होगी छपाई5 करोड़ का मुआवजा पाने वाले किसान की गोली मारकर हत्या, पत्नी ने बेटे पर लगाया आरोपनीमच में जैन मुनि श्री की समाधि के लिए मुस्लिम व्यक्ति ने दी निशु:ल्क भूमि, हिन्दू-मुस्लिम भाई चारे का दिया परिचयRRB-NTPC Exam: पटना के खान सर समेत कई संस्थानों के खिलाफ एफआईआर, छात्रों को उकसाने का आरोप
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.