दाल मील में कार्य करते महिला श्रमिक की मौत

दाल मील में कार्य करते महिला श्रमिक की मौत

dinesh sharma | Publish: May, 17 2018 09:00:56 PM (IST) Karauli, Rajasthan, India

मशीन के पट्टे में उलझी लूगड़ी (साड़ी)

हिण्डौनसिटी. रीको औद्योगिक क्षेत्र स्थित एक दाल मील में काम करते समय गुरुवार दोपहर एक महिला श्रमिक की मृत्यु हो गई। मील मालिक व साथी श्रमिक महिलाएं शव को लेकर राजकीय चिकित्सालय पहुंचे, जहां कोतवाली थाना पुलिस की मौजूदगी में पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया।

मृतका बडक़ापुरा निवासी रामरती (50) पत्नी तेजराम जाटव है। पुलिस के अनुसार बडक़ापुरा निवासी रामरती साथी महिला श्रमिकों के साथ साथ रीको क्षेत्र स्थित एक दाल मील में काम कर रही थी। इस दौरान रामरती की लूगड़ी मशीन के पट्टे में उलझ गई, जिससे वह मशीन के टकरा कर घायल हो गई। साथी श्रमिक व मील मालिक उसे लेकर अस्पताल आए। जहां ड्यूटी चिकित्सक बृजेश चौधरी ने उसे मृत घोषित कर दिया। सूचना पर पुलिस उपाधीक्षक मंजीतसिंह, नई मंडी चौकी प्रभारी मुकेश कुमार, रीको चौकी प्रभारी लीलाराम गुर्जर मय जाप्ता के मौके पर पहुंचे तथा परिजनों से मामले की जानकारी ली। पुलिस ने साथी महिला श्रमिकों के बयान दर्ज किए। मामले में मृतका के पति तेजराम ने मर्ग रिपोर्ट दर्ज कराई है।

सडक़ दुघर्टना में युवक की मौत, दो घायल

मजूदरी के लिए विदेश जाने की तैयारी में जुटे थे तीनों युवक

हिण्डौनसिटी. परिवार के भरन पोषण के लिए परदेश जाने की तैयारी के लिए कागजात तैयार कराने के बाद बुधवार रात घर लौट रहे बाइक सवार तीन जनों को दानालपुर गांव के पास अज्ञात वाहन ने टक्कर मार दी।
सूचना पर पहुंची श्रीमहावीरजी थाना पुलिस ने घायलों को राजकीय चिकित्सालय में भर्ती कराया। जहां से तीनों को गंभीर हालत में जयपुर रेफर कर दिया। घायल हुए एक जने की रास्ते में दौसा के पास मौत हो गई। गुरुवार सुबह पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया। मृतक चांदनगांव निवासी पिन्टू (27) पुत्र प्रेमसिंह जाटव है।

चांदनगांव निवासी पिन्टू व उसके पड़ोस में रहने वाले प्रेमचंद जाटव, समयसिंह जाटव दुबई में मजदूरी के लिए वीजा बनवा रहे थे। कागजात तैयार कराने के बाद रात करीब साढ़े आठ बजे तीनों एक बाइक से हिण्डौनसिटी से घर लौट रहे थे। रास्ते में दानालपुर गांव के पास अज्ञात वाहन ने बाइक को टक्कर मार दी। सूचना पर पहुंची पुलिस ने एम्बुलेंस से घायलों को हिण्डौन के राजकीय चिकित्सालय में भर्ती कराया। चिकित्सकों ने प्राथमिक उपचार के बाद घायलों को जयपुर रेफर कर दिया। जहां ले जाते समय रात करीब 11 बजे दौसा के पास पिन्टू ने दम तोड़ दिया।

परिजनों पर टूटा दुखों का पहाड़
परिजनों ने बताया कि पिता प्रेमसिंह के वृद्व होने के कारण परिवार के भरण पोषण की जिम्मेदारी पांच भाई-बहनों में सबसे बड़े पिन्टू के कांधों पर थी। इसके लिए वह पूर्व में भी विदेश होकर आया था फिर से विदेश जाने की तैयारी कर रहा था। लेकिन पिन्टू की मौत से अब परिवार पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है। उसके पिता प्रेमसिंह, मां सोमोती, पत्नी सीमा के अलावा मृतक के भाई-बहनों का रो-रोकर बुरा हाल हो रहा था। घर के आंगन में जमा लोगों की भीड़ व बुसुध मां को देख कर मृतक की दो वर्ष की बेटी अलका भी बार-बार रो रही थी।

 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned