धार्मिक आयोजनों से बढ़ता मेलजोल

dinesh sharma

Publish: May, 18 2018 12:01:43 PM (IST)

Karauli, Rajasthan, India
धार्मिक आयोजनों से बढ़ता मेलजोल

कीर्तन दंगल में बोले विधायक
महिलाओं ने रचनाओं से बांधा समां

हिण्डौनसिटी. क्षेत्र के खेड़ा जमालपुर गांव में गुरुवार को आयोजित महिला हरिकीर्तन दंगल में पौराणिक कथाओं पर आधारित रचनाओं ने श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया। मुख्य अतिथि करौली विधायक दर्शनसिंह गुर्जर ने कहा कि धार्मिक आयोजनों से समाज में मेलजोल बढ़ता है। आपसी भाईचारे के लिए ऐसे आयोजन होते रहने चाहिए। उन्होंने कहा कि क्षेत्र में बिना भेदभाव के विकास कार्य कराए गए हैं। आगे भी यह सिलसिला आगे भी जारी रहेगा।

खेड़ा जमालपुर की महिला हरिकीर्तन मंडली की ओर से राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय में आयोजित दंगल का उद्घाटन मां सरस्वती के चित्रपट की पूजा-अर्चना के साथ हुआ। इसके बाद महिला हरि कीर्तन पार्टी ने दानवीर कर्ण की कथा का प्रसंग सुनाते हुए धंस गए मेरे रथ के पहिया रचना सुनाई। इसी दौरान काकरोली की महिला हरि कीर्तन मंडली ने राजा हरिश्चन्द्र की कथा पर आधारित रचना, शेरपुर की महिला हरिकीर्तन मंडली ने तो अब आई धर्म की याद रचना सुना कर लोगों को मंत्रमुग्ध कर दिया। गांव खेड़ा कि हरिकीर्तन मंडली ने भगवान श्री कृष्ण और सुदामा की मित्रता की कथा पर आधारित रचना गाकर श्रोताओं को भाव-विभोर किया। गांव जमालपुर महू आदि की हरि कीर्तन मंडली भी रचनाएं गाई। हरिकीर्तन भजन मंडली की प्रभारी गीता देवी ने बताया कि कीर्तन दंगल में एक दर्जन गांवों की सैकड़ों महिला गायक कलाकारों ने भाग लिया। इस मौके पर लाखनसिंह कटकड़, खेडा सरपंच ललिता जाटव, पूर्व प्रधान दशरथ जाट, प्रेमराज मीणा, पूर्व सरपंच नंदकिशोर चौधरी, दीनानाथ गौड, राजेंद्र जगरबाड, हेतराम मीणा, पुरषोत्तम जाट, रमनसिंह, ज्ञानसिंह, बृजलाल, उदयसिंह, मानसिंह, करणसिंह, लखन लाल, समयसिंह, केदार जाटव आदि मौजूद रहे।

कलश यात्रा में गूंजे जयकारे
श्रीमहावीरजी. समीप के गांव सनेट स्थित गंभीर नदी तट पर भागवत कथा के शुभारंभ पर बाल हनुमान मंदिर से गुरुवार को कलश यात्रा निकाली गई। कलश यात्रा में धर्म के जयकारे गूंज उठे। कलश यात्रा में महिलाएं सिर पर कलश धारण कर मंगल गीत गाती चल रही थीं। मंदिर के महंत संत रामदास ने बताया कि कलश यात्रा गंभीर नदी तट स्थित बाल हनुमान मंदिर से प्रारंभ होकर गांव के मुख्य मार्गों से होती हुई कथा स्थल पर पहुंची। कथा के प्रथम दिन आचार्य पंडित सतीश चंद्र पाराशर ने भागवत कथा के महत्व के बारे में जानकारी। इस मौके पर बड़ी संख्या में श्रद्धालु मौजूद थे।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned