‘टाइगर’ की टीम की रड़ार पर जिले के ‘इनामदार’

'Inamdar' of the district on the basis of 'Tiger' team. 57 people have been absconding for years in Karauli district of Rajasthan

-राजस्थान के करौली जिले में वर्षों से फरार हैं 57 गुनाहगार

By: Anil dattatrey

Published: 01 Jul 2020, 10:17 AM IST

हिण्डौनसिटी. हत्या, लूट, डकैती और दुष्कर्म जैसे संगीन गुनाहों को अंजाम देने वाले जिले के 57 से ज्यादा ‘इनामदार’ पुलिस की पकड़ से बाहर हैं। इनामदारों की इस फेहरिस्त में हाल ही में अपराध कर अंडरग्राउंड हुए आदतन अपराधियों के अलावा 30-40 साल से फरार डकैत और बदमाशों के नाम भी शुमार हैं। लगातार ठिकाने बदलकर लंबे अर्से से फरार चल रहे ये इनामी बदमाश अब ‘टाइगर की टीम’ जिला पुलिस की स्पेशल टीम की रडार पर हैं।

गुनाहगारों को पकडऩे के लिए डीएसटी ने खास प्लान तैयार किया है। एसपी अनिल बेनीवाल के निर्देशन में डीएसटी के सदस्य बदमाशों के अपराध के तरीकों का अध्ययन करने के साथ ही दूसरे राज्यों की पुलिस की भी मदद ले रहे हैं।


यही वजह है कि बीते एक पखवाड़े में डीएसटी ने 15 हजार के इनामी कुख्यात डकैत लटूरी ठाकुर समेत हत्या के मामले में 38 वर्ष से फरार इनामी बदमाश समेत तीन इनामियों को पकडऩे में कामयाबी हासिल कर ली है।


सूत्रों के अनुसार जिले में हत्या, अपहरण, लूट, डकैती जैसे संगीन वारदातों को अंजाम देने वाले बदमाश लंबे अर्से से फरार हैं। इनके नए ठिकानों के बारे में ठोस मुखबिरी नहीं मिलने के कारण पुलिस के लिए उन्हें ढूंढना मुश्किल हो रहा था। लंबे समय से पकड़ में नहीं आने पर इनके ऊपर एसपी, आइजी और एडीजीपी व डीजीपी स्तर पर इनाम घोषित किया गया है।

मगर, अपराध के शातिराना तरीके और ठिकाने बदलने की वजह से ये बदमाश पुलिस के हत्थे नहीं चढ़ पा रहे हैं। ऐसे में 500 से 5000 रुपए के इनामी बदमाशों को सलाखों के भीतर पहुंचाने के लिए अब डीएसटी को जिम्मा सौंपा गया है। एसपी के निर्देशन में बदमाशों को दबोचने के लिए पुलिस की टीम पूरी ताकत झोंक रही है।

हाल ही में पुलिस मुख्यालय ने करौली जिले में 59 इनामी बदमाशों को सूचीबद्ध किया हैं। पिछले तीन महीने में डीएसटी 10 इनामी बदमाशों को पकडने का दावा कर रही है। अन्य बदमाशों पर भी मुखबिरों के जरिए नजर रखी जा रही है। दूसरे राज्यों की पुलिस की मदद ली जा रही है।


बाहरी जिले और राज्यों के 22 इनामी बदमाश-
सूत्रों के अनुसार इनामी बदमाशों की सूची में 22 बदमाश करौली जिले से बाहर के हैं। इनमें यूपी, एमपी, नागौर, झुंझनू, धौलपुर, अलवर, भरतपुर जिलों के हैं। जिले से बाहर हत्या, डकैती और लूट के अलावा ठगी की वारदात करने वालों को तलाशना बड़ा चुनौती हैं। क्योंकि ये बदमाश फुलपू्रफ प्लानिरंग के तहत अपराध को अंजाम देने के लिए करौली जिले में आए थे। उन्हें पता था कि वारदात सामने आने के बाद पुलिस तलाश करेगी। अब इन बदमाशों को तलाशना टेढ़ा काम है। इनमें चिटफंड कारोबारी भी शामिल हैं।

हत्या के 14 आरोपियों पर घोषित है इनाम-
पुलिस के अनुसार इनामी बदमाशों की सूची में शामिल 14 आरोपी हत्या के मामलों में फरार हैं। जो वारदात कर भूमिगत हो गए थे। लेकिन अब फिर से यह अपराधी डीएसटी की रडार पर हैं। इधर इनामियों के फरार होने की वजह से संगीन अपराधों में पीडि़तों को इंसाफ का इंतजार है। इसके अलावा दुष्कर्म, हत्या के प्रयास, अवैध हथियार, ठगी, पुलिस कस्टडी से फरार, चोरी, अपहरण, आइटी एक्ट के इनामियों की भी तलाश है।

टॉस्क मिला है, जल्द पूरा करेंगे-
जिले में इनामी बदमाशों को पकडऩे के लिए टॉस्क मिला है। एसपी के निर्देशन में प्री प्लान से तैयारी कर बदमाशों को दबोचा जाएगा। इसके लिए पूरी तैयारियां की गई है। जिले के ज्यादातर इनामी जल्द पकड़ में होंगे।-
यदुवीर सिंह, प्रभारी, डीएसटी, करौली।

Anil dattatrey Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned