scriptIndustrial areas will be established in each subdivision for industri | जिले में औद्योगिक विकास के लिए प्रत्येक उपखण्ड में स्थापित होंगे औद्योगिक क्षेत्र | Patrika News

जिले में औद्योगिक विकास के लिए प्रत्येक उपखण्ड में स्थापित होंगे औद्योगिक क्षेत्र

Industrial areas will be established in each subdivision for industrial development in the district.

रीको के क्षेत्रीय प्रबंधक महेश चंद मीणा से साक्षात्कार

करौली

Published: July 03, 2022 10:38:06 am

हिण्डौनसिटी. प्रदेश में राजस्थान राज्य औद्योगिक विकास एवं विनियोग निगम लिमिटेड(रीको) की स्थापना के सरकार ने हिण्डौन में औद्योगिक क्षेत्र की शुरुआत की थी। डांग क्षेत्र में सेण्ड स्टोन की प्रचुरता होने से औद्योगिक क्षेत्र में अधिकांश फैक्ट्री सेण्ड स्टोन आधारित की होगी गई। जिसे डांग क्षेत्र सहित औद्योगिक क्षेत्र से सटे इलाके के लोगों को रोजगार मिल सके। रीको औद्योगिक क्षेत्र की स्थापना के बाद चार दशक से अधिक यानी 43 वर्ष में औद्योगिक विकास में कितना सफर तय किया है। रीको के क्षेत्रीय प्रबंधक महेश चंद मीणा से पत्रिका से साक्षात्कार में जिले में सरकार की विकास घोषणाओं और रीको की औद्योगिक विकास की नई योजनाओं पर विस्तृत चर्चा की। पेश हैं बातचीत के प्रमुख अंश....
 जिले में औद्योगिक विकास के लिए प्रत्येक उपखण्ड में स्थापित होंगे औद्योगिक क्षेत्र
जिले में औद्योगिक विकास के लिए प्रत्येक उपखण्ड में स्थापित होंगे औद्योगिक क्षेत्र
प्रश्न- जिले में औद्योगिक विकास की धीमी चाल है। चार दशक बाद भी समुचित उद्योग स्थापित नहीं हो सके हैं।

उत्तर- चार दशक में हिण्डौन में रीको औद्योगिक क्षेत्र के अलावा आईआईडी सेंटर मे विकसित कर फैक्ट्री स्थापित हुई हैं। जिले के दूसरे कस्बों में नए उद्योग लगाने के लिए शिविर लगा कर उद्यमियों को प्रोत्साहित किया जाता है। जिला उद्योग केंद्र भी युवाओं को विभिन्न विधाओं के उद्योग लगाने के लिए उपलब्ध कराता है।
प्रश्न- करौली जिला औद्योगिक दृष्टि पिछड़े प्रदेश के पांच जिलों में शुमार है। औद्योगिक विकास के लिए रीको क्या कर रहा है।

उत्तर- पिछड़े जिलों में उद्योग लगाने के लिए रीको की कई रियायत योजनाए हैं। जो करौली जिले में भी प्रभावी हैं। उद्योग लगाने के लिए औद्योगिक क्षेत्र में भूखण्ड राशि में 50 फसदी कर सब्सिडी दी जा रही है। जो उद्यमी के लिए बड़ी राहत है। इस अलावा राज्य सरकार की औद्योगिक प्रोत्साहन योजना में फैक्ट्री स्थापित करने से लेकर उत्पादन शुरू होने तक कई रियायतें दी जाती हैं।
प्रश्न- करौली जिले में औद्योगिक विकास महज हिण्डौन में ही दिखता है। करौली में आशानुकूल उद्योग नहीं लग सके हैं। अन्य कस्बे अछूते हैं।

उत्तर-अब जिले में चहुओर औद्योगिक विकास होगा। राज्य सरकार की नई औद्योगिक विकास नीति में हर उपखण्ड मुख्यालय पर रीको औद्योगिक क्षेत्र स्थापित किए जा रहे है। रीको द्वारा मण्डरायल, सपोटरा सहित अन्य कस्बों में इसकेे लिए भूमि भी चिह्नित की जा रही हैं।
प्रश्न- औद्योगिक क्षेत्र में उद्यम संचालन के लिए रीको पानी उपलब्ध करा रहा है। ऐसे में उत्पादन प्रभावित हो रहा है। उद्यमी परेशान हैं।

उत्तर- केवल हिण्डौन औद्योगिक क्षेत्र में भूजल स्तर गिरने से समस्या है। 20 वर्ष तक उद्यमों को जलापूर्ति दी गई थी। करौली में रीको ही जलापूर्ति कर रहा है। नए औद्योगिक क्षेत्र में जल उपलब्धता को प्राथमिकता में रखा गया है।
प्रश्न- जिले में संचालित दोनों औद्योगिक क्षेत्रों के लिए डम्पिंग यार्ड नहीं है। ऐसे में उद्यमी रीको क्षेत्र में ही कचरा डालने को मजबूर हैं।

उत्तर- हिण्डौन और करौली के औद्योगिक क्षेत्र के लिए बाहर डम्पिंग यार्ड के लिए भूमि तय कर ली गई है। जल्द की डिम्पिंग यार्ड की समस्या का स्थायी समाधान हो जाएगा। जिल के नए औद्योगिक क्षेत्रों डम्पिंग यार्ड को प्रोजेक्ट में शुमार किया हुआ है।
प्रश्न- जिले के औद्योगिक क्षेत्रों में कई इकाईयां बंद हो गई तो कुछ प्रारंभ ही नहीं हुई। इनके लिए रीको की क्या योजना है।

उत्तर- बंद पड़ी फैक्ट्री को फिर से शुरू करने के लिए 2 वर्ष की अवधि होती है। वहीं उत्पाद परिवर्तन, ऋण उपलब्ध कराना व अन्य राहतें दे उद्यमियों को सम्बल दिया जाता है। ताकि फैक्ट्रियां संचालित हो सकेें।
प्रश्न-सरकार की मंशा साकार हुुई तो आगामी वर्षों में जिले का औद्योगिक विकास विकास का नक्शा कैसा होगा।

उत्तर- हिण्डौन में औद्योगिक क्षेत्र और आईआईडी सेंटर के फुल होने के बाद रीको ने खेडी शीश गांव में तीसरे औद्योगिक क्षेत्र की स्थापना की शुुरुआत कर दी है। वहीं जिले में नादौती, सपोटरा, टोडाभीम व मण्डरायल उपखण्ड मुुख्यालय पर औद्योगिक क्षेत्र स्थापित करने की कवायद चल रही है। फिलहाल जिले में हिण्डौन, करौली व मासलपुर में औद्योगिक क्षेत्र हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

बिहार : नीतीश कुमार का बड़ा ऐलान, 20 लाख युवाओं को देंगे नौकरी और रोजगारIndependence Day 2022 : अगले 25 सालों का क्या है प्लान, पीएम मोदी के भाषण की 10 बड़ी बातेंIndependence Day 2022: लाल किले पर बना नया रिकार्ड, पहली बार मेड इन इंडिया तोप ने दी सलामी, जानें इसके बारे मेंHar Ghar Trianga Campaign में 30 करोड़ से ज्यादा के झंडे बिके, CAIT ने बताया इतने करोड़ का हुआ कारोबारIndependence Day 2022: मोहन भागवत ने RSS मुख्यालय में फहराया तिरंगा, बोले-देश को क्या दे रहे हैं यह सोचकर जीने की जरूरत15 August 2022: स्वतंत्रता दिवस के मौके पर पीएम मोदी 3 हेल्थ स्कीम कर सकते हैं लॉन्च , जानें इनके बारेHar Ghar Trianga Live Updates: 'यह राजनीति करने का समय नहीं,मिलकर स्वतंत्रता दिवस मनाने का है समय है', प्रियंका गांधी वाड्रास्वतंत्रता दिवस 2022: गूगल भी मना रहा भारत की आजादी का जश्न, पतंगों के साथ डूडल बनाकर भारत की संस्कृति को दर्शाया
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.