आंगनबाड़ी कार्मिक व पोषाहार समूहों को नहीं मिल रहा भुगतान

गुढ़ाचन्द्रजी. केन्द्र व राज्य सरकार सरकारी कर्मचारियों को खुश करने के लिए दीपावली पर बोनस के नाम पर करोड़ों रुपए खर्च कर रही है, वहीं दूसरी ओर टोड़ाभीम परियोजना के आंगनबाड़ी केन्द्रों में कार्यरत कार्मिकों को चार माह से व पोषाहार वितरण करने वाले स्वयं सहायता समूहों को एक वर्ष से भी अधिक समय से भुगतान नहीं मिल रहा है।

४३ केन्द्रों पर बंद है पोषाहार
गुढ़ाचन्द्रजी. केन्द्र व राज्य सरकार सरकारी कर्मचारियों को खुश करने के लिए दीपावली पर बोनस के नाम पर करोड़ों रुपए खर्च कर रही है, वहीं दूसरी ओर टोड़ाभीम परियोजना के आंगनबाड़ी केन्द्रों में कार्यरत कार्मिकों को चार माह से व पोषाहार वितरण करने वाले स्वयं सहायता समूहों को एक वर्ष से भी अधिक समय से भुगतान नहीं मिल रहा है। ऐसे में आंगनबाड़ी कार्मिकों के साथ समूहों को चलाने वाली महिलाओं को दीपावली का पर्व आर्थिक तंगी के बीच मनाने को मजबूर होना पड़ेगा। पोषाहार बंद होने के साथ ही इन केन्द्रों पर गर्भवती व धात्री महिलाओं को बेबी मिक्स के पैकेट नहीं मिल रहे हैं। आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं, सहायिकाओं व आशा सहयोगिनों को चार माह से मानदेय नहीं मिला है। जानकारी के अनुसार टोडाभीम परियोजना में २२७ आंगनबाड़ी केन्द्र है। लेकिन ४३ केन्द्रों पर १ अगस्त से पोषाहार बंद है।
बच्चे नहीं दिखा रहे रुचि
पोषाहार बंद होने से इन केन्द्रों पर अधिकांश बच्चे आने में रुचि नहीं दिखा रहे। ऐसे में कार्मिक केन्द्रों पर ठाली बैठी रहती है। केन्द्रों पर ३ से ६ वर्ष तक के बच्चों को गर्म पोषाहार देने का नियम है। पोषाहार समूह के माध्यम से दिया जाता है। लेकिन समूहों को भी १४ माह से पोषाहार का भुगतान नहीं मिला है। कई केन्द्रों पर समूह उधार लेकर आंगनबाड़ी केन्द्रों पर पोषाहार दे रहे हैं।
हो रही आर्थिक परेशानी
राज्य सरकार ने आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं का मानदेय १ अक्टूबर २०१८ से ७ हजार ५०० रुपए कर दिया है। लेकिन उन्हें आज भी पुराना मानदेय ही मिल रहा है। आशा सहयोगिनी को भी २ हजार ५०० रुपए मानदेय दिया जा रहा है। जबकि सरकार ने २०० रुपए मानदेय बढ़ा दिया है। सहायिका को पिछले चार माह से मानदेय का इंतजार है। उन्हें भी पुराना ३ हजार ५०० रुपए प्रतिमाह वेतन मिल रहा है। जबकि सरकार ने ४ हजार २०० रुपए कर दिया है। आंगनबाड़ी कार्मिकों ने बताया कि बढ़ा हुआ मानदेय तो दूर पुराना मानदेय भी चार माह से नहीं मिल रहा है।
उधारी बढ़ी तो दुकानदार करने लगे मना
केन्द्रों पर पोषाहार वितरण करने वाले समूहों को लम्बे समय से भुगतान नहीं मिला है। ऐसे में बाजार में दुकानदार भी उधारी देने से मना करने लगे है। साथ ही दीपावली का पर्व के आने से दुकानदार भी उधारी का तकाजा कर रहे हैं।
शीघ्र होगा भुगतान
सीडीपीओ टोडाभीम भयसिंह मीना का कहना है कि लंबे समय से कोई स्थाई सीडीपीओ नहीं रहा है। मुझे भी चार्ज संभाले ही अभी आठ-दस दिन ही हुए है।
भुगतान के लिए उन्होंने सुपरवाईजरों की मिटिंग लेकर आंगनबाड़ी केन्द्रों पर कार्यरत कार्मिकों की उपस्थिति मंगवा ली है। शीघ्र ही दो-तीन दिन में मानदेय का भुगतान कर देंगे। पोषाहार वितरण में हुई धांधली की जांच कराने के बाद ही समूहों के भुगतान के बारे में कुछ हो सकेगा।
४३ केन्द्रों पर बंद पड़े पोषाहार को शीघ्र ही चालू करा दिया जाएगा। (पत्रिका संवाददाता)

Jitendra
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned