कैलादेवी में फंसे 80 जनों को भिजवाया घर, कैलादेवी मेले में आए थे टोकरी बेचने

करौली. झालावाड़ से कैलामाता के मेले में बांस की टोकरी बेचने आए 80 लोगों को गुरुवार को जिला प्रशासन के सहयोग से झालावाड़ के लिए रवाना कर दिया गया। प्रशासन ने बस की व्यवस्था कर उन्हें भिजवाया।

करौली. झालावाड़ से कैलामाता के मेले में बांस की टोकरी बेचने आए 80 लोगों को गुरुवार को जिला प्रशासन के सहयोग से झालावाड़ के लिए रवाना कर दिया गया। प्रशासन ने बस की व्यवस्था कर उन्हें भिजवाया।

कैलादेवी ग्राम पंचायत के उपसरपंच राधेश्याम माली ने बताया कि ग्राम पंचायत की ओर से सुबह भोजन कराने के बाद प्रशासन के सहयोग से रवाना किया गया। उपसरपंच ने अपनी ओर से उन्हें आर्थिक सहायता भी सौंपी।


गौरतलब है कि कैलामाता के मेले में ये लोग टोकरी बेचने के लिए आए थे। कैलामाता का चैत्र लक्खी मेला 20 मार्च से शुरू होना था, लेकिन उससे पहले ही कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने की वजह से जिला प्रशासन ने मेला स्थगित कर दिया। इसके बाद कैलादेवी मंदिर ट्रस्ट प्रशासन ने भी आमजन के लिए कैलामाता के दर्शन बंद कर दिए। इसके अलावा प्रदेश में धारा 144 और फिर लॉक डाउन की घोषणा हो गई। इससे ये लोग यहीं पर अटककर रह गए। प्रशासन को सूचना मिलने के बाद बस के जरिए इन्हें भिजवाया गया।

Dinesh sharma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned