ऑटो से घिरे तिराहे-चौराहे, व्यस्ततम सड़कें बनी हैं पार्किंग, ऐसे बिगड़ रहे हालात

शहर की यातायात व्यवस्था हो रही बदहाल
शहरवासी होते परेशान, जिम्मेदार नहीं गंभीर

By: Dinesh sharma

Published: 18 Oct 2020, 07:36 PM IST

करौली. जिला मुख्यालय के विभिन्न तिराहे और चौराहों ने टेम्पों स्टैण्डों का रूप धारण कर रखा है। टेम्पों-ऑटों के लिए शहर में कहीं भी निर्धारित स्थान नहीं हैं, ऐसे में टेम्पों चौराहों-तिराहों पर खड़े नजर आते हैं, जो आवागमन को बाधित करते हैं। साथ ही भीड़भाड़ वाले स्थानों पर इनके प्रवेश से परेशानी हो रही है।

अब नवरात्र शुरू होने के साथ ही शहर के बाजारों में खरीदारी के लिए लोगों की आवक बढऩे लगी है, लेकिन शहर की बदहाल यातायात व्यवस्था आमजन पर भारी पड़ रही है। इस व्यवस्था को दुरुस्त करने के बाद यातायात पुलिस गंभीर नजर नहीं आती। नतीजतन बाजार में विभिन्न स्थानों पर कई बार जाम की नौबत आती है। विशेष रूप से अनाज मण्डी क्षेत्र, चौधरी पाड़ा, बजाजा बाजार आदि में तो यह परेशानी विकट है।

यहां बड़ा बाजार, भूडारा बाजार, न्यायालय परिसर के सामने, पुरानी सब्जी मण्डी, गणेश गेट, ट्रक यूनियन क्षेत्र आदि स्थानों पर दिनभर ऑटो-टेम्पों सड़क के बीच जमे रहते हैं। बड़ा बाजार में तो बीच सड़क पर ऑटो के खड़ा रहने से यातायात बाधित होना आम बात है। कई बार तो स्थिति यह होती है कि राहगीरों को भी रास्ता नहीं मिल पाता। जाम भी लगते रहते हैं। बड़ा बाजार में तो यातायात पुलिसकर्मी की तैनाती के बावजूद ऑटो आड़े-तिरछे खड़े रहते हैं। यातायात पुलिसकर्मी उन्हें रोकने-टोकने तक की जहमत नहीं उठाते। हालांकि फूटाकोट क्षेत्र में यातायात पुलिसकर्मी इस मामले में कुछ गंभीर नजर आते हैं। लोगों का कहना है कि ऑटो-टेम्पों को कहीं भी यदि व्यवस्थित तरीके से खड़ा कराया जाए तो व्यवस्था में सुधार हो सकता है, जिससे आमजन को भी राहत मिलेगी।

स्पीड ब्रेकर की है दरकार
यहां बजीरपुर गेट बाहर से कलक्ट्रेट की ओर जाने और कलक्ट्रेट की ओर से शहर में अन्दर आने के लिए वाहन चालकों को ढलानभरे रास्तों से गुजरना पड़ता है। ये ढलान बजीरपुर गेट बाहर और पीडब्ल्यूडी के सामने हैं। ढलान होने से वाहनों की गति तेज होती है, जबकि रास्ते के बीच विद्युत निगम के ट्रांसफार्मर के समीप विकट मोड़ है, जहां से आमने-सामने के वाहन दोनों चालकों को नजर नहीं आते हैं, जिससे कई बार इस स्थान पर दुर्घटनाएं हो चुकी हैं। इससे लोगों को महिनों तक चोटों की पीड़ा भी सहनी पड़ी है। क्षेत्र के लोगों का कहना है कि इस स्थान पर प्रशासन की ओर से दोनों ओर कम से कम दो स्पीड बे्रकरों का निर्माण करा दिया जाए तो यहां वाहनों की तेज रफ्तार पर अंकुश लग सकेगा।

धीरे-धीरे बढऩे लगी भीड़
कोरोना के कहर के कारण पिछले महिनों में बाजार में भीड़ जैसी स्थिति अधिक नहीं थी, लेकिन अब शारदीय नवरात्र शुरू होने से त्योहारी सीजन की शुरूआत हुई है। वहीं दीपावली बाद शादी-विवाहों का भी दौर शुरू हो जाएगा, ऐसे में खरीदारी के लिए लोगों की संख्या में बढ़ोतरी होने लगी है, लेकिन बेतरतीब यातायात से आमजन को परेशानी उठानी पड़ती है।

Dinesh sharma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned