करौली रोडवेज डिपो का स्वतंत्र संचालन की बजाए अब हो रही यह तैयारी

अब डीजल टैंक को ले जाने की तैयारी !
कार्मिक और बसें पहले से ही की कम
करौली रोडवेज डिपो का स्वतंत्र संचालन कब

By: Dinesh sharma

Published: 21 Nov 2020, 06:32 PM IST

करौली. करौली जिला मुख्यालय पर करीब दशक पहले मिली रोडवेज डिपो की सौगात कागजों में ही मुस्कुरा कर रह गई है। कागजों में दौड़ रहे करौली डिपो के धरातल पर उतरने की बजाए व्यवस्थाएं समेटने की तैयारियां जा रही हैं। अब डिपो के लिए लगाए गए डीजल टैंक को यहां से खोलने की तैयारियां की जा रही हैं। इससे निकट भविष्य में डिपो का स्वतंत्र संचालन हो पाने को लेकर आशंकाएं उत्पन्न हुई हैं।

रोडवेज डिपो के लिए बड़ी राशि खर्च करने के बाद डिपो का स्वतंत्र संचालन होने की बजाए धीरे-धीरे यहां से व्यवस्थाएं सिमटने लगी हैं। पिछले वर्षों में ना केवल यहां से मुख्य प्रबंधक का पद हटा दिया गया, बल्कि करौली डिपो के नाम से नियुक्त अधिकांश कार्मिकों को भी हिण्डौन सिटी बुला लिया गया। इतना ही नहीं उच्च स्तर से करौली डिपो के लिए स्वीकृत हुई रोडवेज बसों में भी कटौती कर दी गई है।

अब डिपो के लिए लगाए जाने वाले डीजल पम्प से टेंक को ले जाने की तैयारी की जा रही है। इससे डिपो के स्वतंत्र संचालन की उम्मीदों को और झटका लगेगा। कुल मिलाकर शुरू से अब तक करौली डिपो स्वतंत्र संचालन के लिए तरस रहा है और इसका संचालन हिण्डौन डिपो के अधीन हो रहा है। इससे शहरवासी निराश हैं।

आठ वर्ष पहले हुआ उद्घाटन
वर्ष 2010-11 के बजट में करौली को आगार का तोहफा मिला, तो लोगों को परिवहन सुविधा बढऩे और रोडवेज की बेहतर सेवाएं मिलने की उम्मीद जगी थी। इन उम्मीदों को उस समय और भी पंख लगे जब आधे-अधूरे रोडवेज डिपो का उद्घाटन भी दिसम्बर 2012 में तत्कालीन परिवहन मंत्री द्वारा कर दिया गया। लेकिन उच्च स्तर पर पहल के अभाव में अब तक डिपो का स्वतंत्र संचालन नहीं हो सका है। इससे लोगों की उम्मीदें एक दशक बाद भी अधूरी हैं।

करौली डिपो के नाम की बसें भी सड़कों पर दौडऩे लगी
रोडवेज के उच्चाधिकारियों ने डिपो के लिए यहां स्टाफ भी स्वीकृत कर दिया। डिपों के लिए लाखों रुपए खर्च कर निर्माण कार्य भी केन्द्रीय रोडवेज बस स्टैण्ड पर करा दिया गया, लेकिन डिपो का संचालन करौली से हो ही नहीं पाया। और तो और यहां डिपो के लिए लगाए गए मुख्य प्रबंधक के पद को भी समाप्त कर हिण्डौन के ही अधीन कर दिया गया। धीरे-धीरे यहां के स्टाफ को हिण्डौन बुला लिया। सरकार की इस अनदेखी के चलते करौलीवासियों की उम्मीदें धुमिल हो गईं।

बसें भी हो गईं कम
करौली आगार के नाम पर गत वर्षों में दो दर्जन से अधिक बसें भी आवंटित की गई थी, लेकिन इनमें से अधिकांश बसों का इस्तेमाल हिण्डौन डिपो कर रहा है। रोडवेज सूत्रों के अनुसार यहां के करीब 18 शिड्यूल में से महज करीब 5 शिड्यूल पर ही बसों का संचालन कर दिया गया है। इससे धीरे-धीरे बसों का संचालन भी कम हो गया।

अधूरे रह गए कार्य
रोडवेज डिपो के लिए केन्द्रीय रोडवेज बस स्टैण्ड परिसर में वर्कशॉप, डीजल टेंक, कार्यालय के लिए भवन आदि का निर्माण कराया गया। वर्कशॉप व डीजल टैंक सहित नल फीटिंग व बस स्टैण्ड के मध्य दीवार निर्माण का कार्य अधूरा है। इन कार्यों के अधूरा रहने से ही अब तक डिपो का स्वतंत्र संचालन नहीं हो सका है।

इनका कहना है
करौली रोडवेज बस स्टैण्ड से बसों का संचालन हो रहा है। डिपो के स्वतंत्र संचालन का मामला तो रोडवेज मुख्यालय का है। कार्मिकों को व्यवस्था बतौर लगाया जाता है। हैड ऑफिस से कम्पनी का कॉन्टेक्ट खत्म होने के कारण डीजल टैंकर खोलने की बात है।
विष्णुकुमार वर्मा, मुख्य प्रबंधक, रोडवेज डिपो हिण्डौनसिटी

Dinesh sharma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned