करौली जिले की इस तहसील को भी लगा ऑनलाइन का तमगा, तीन दिन में दो तहसील ऑनलाइन अधिसूचित

करौली. महज तीन दिन के अंतराल में जिले की एक और तहसील को ऑनलाइन का तमगा लगा है। अब जिले की मासलपुर तहसील का राजस्व रिकार्ड भी ऑनलाइन हो गया है।

By: Dinesh sharma

Published: 09 Jan 2021, 09:00 PM IST

करौली. महज तीन दिन के अंतराल में जिले की एक और तहसील को ऑनलाइन का तमगा लगा है। अब जिले की मासलपुर तहसील का राजस्व रिकार्ड भी ऑनलाइन हो गया है। डीआईएलआरएमपी योजनान्तर्गत ऑनलाइन मासलपुर तहसील को अधिसूचित भी कर दिया गया है। इस प्रकार जिले की आठ तहसीलों में से अब 6 तहसीलें ऑनलाइन हो गई हैं।

तहसील के ऑनलाइन होने से अब मासलपुर तहसील क्षेत्र के किसानों सहित अन्य लोगों को अपने खेत की भूमि की जमाबंदी और नक्शों के लिए ऑनलाइन सुविधा मिल सकेगी। जिला कलक्टर सिद्धार्थ सिहाग ने बताया कि एनआईसी करौली के सहयोग से ऑनलाइन व्यवस्था के तहत प्रत्येक किसान के खाते को ई-साइन किया गया है। सभी गांवों के नक्शे भी डिजिलाइजेशन किए हैं। मासलपुर तहसील को ऑनलाइन करने के लिए सेग्रिगेशन एवं मेप डिजिटाइजेशन का कार्य पूर्ण कर इस तहसील क्षेत्र के राजस्व गांवों की ई-धरती एवं भू-नक्शा एरर रिपोर्ट को भी शून्य किया गया है।

4 भू-अभिलेख वृत, 16 पटवार मंडल
राजस्व विभाग के सूत्रों के अनुसार मासलपुर तहसील क्षेत्र में 4 भू-अभिलेख वृत (आईएलआर सर्किल) शामिल किए गए हैं। वहीं इसमें 16 पटवार मंडलों को शामिल किया है। जबकि 91 राजस्व गांव शामिल किए हैं। तकनीकी निदेशक अनिल जैन ने बताया कि वैसे तो मासलपुर तहसील में 93 राजस्व गांव हैं, लेकिन दो गांवों के नक्शे पूर्ण नहीं होने पर राज्य सरकार से अनुमति लेकर 91 का डिजिलाइलजेशन कर दिया है। शेष दो गांवों को भी जल्द डिजिलाइजेशन किया जाएगा।

अब दो शेष
6 तहसीलों के ऑनलाइन होने के बाद अब जिले की दो तहसील ऑनलाइन होने से शेष रही हैं। इनमें जिला मुख्यालय करौली तहसील तथा सपोटरा को अभी ऑनलाइन किया जाना है।

तेजी से चली प्रक्रिया
जिला प्रशासन के निर्देशन में एनआईसी करौली द्वारा मण्डरायल के बाद मासलपुर तहसील के राजस्व रिकार्ड को ऑनलाइन करने की प्रक्रिया तेजी से अपनाई गई। एनआईसी के तकनीकी निदेशक अनिल जैन के नेतृत्व में कार्मिकों ने ऑनलाइन के तहत सभी प्रक्रियाओं को तेजी से किया। स्वयं जिला कलक्टर सिद्धार्थ सिहाग ने इसकी मॉनीटरिंग की। शुक्रवार रात तक एनआईसी में इसके लिए काम चला। शनिवार सुबह तकनीकी निदेशक अनिल जैन ने कार्य को पूर्ण किया। विशेष बात यह है कि शनिवार को ही जिला कलक्टर की ओर से मासलपुर तहसील के ऑनलाइन के प्रस्ताव भिजवाए गए और शनिवार को ही राज्य सरकार ने ऑनलाइन की अधिसूचना जारी कर दी। इससे पहले 6 जनवरी को जिला प्रशासन ने ऑनलाइन की गई मण्डरायल तहसील को अधिसूचित करने के लिए सरकार को प्रस्ताव भेजे थे और उसी दिन मण्डरायल तहसील को भी अधिसूचित कर दिया गया। दोनों ही तहसीलों के मामले में जिला कलक्टर ने व्यक्तिगत रूचि लेते हुए प्रक्रिया को तेजी से पूर्ण कराया।

इनका कहना है...
डीआईएलआरएमपी योजनान्तर्गत मासलपुर तहसील भी ऑनलाइन हो गई है। अधिसूचना भी जारी हो गई है। इससे अब इस तहसील क्षेत्र के लोगों-किसानों को काफी सुविधा मिलेगी। इस कार्य के लिए एनआईसी के तकनीकी निदेशक अनिल जैन और एसडीओ देवेन्द्रसिंह परमार ने काफी मेहनत की। विशेष रूप से एनआईसी तकनीकी निदेशक ने विशेष रूचि लेकर कार्य को पूर्ण किया।
सिद्धार्थ सिहाग, जिला कलक्टर, करौली

Dinesh sharma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned