बोले सरपंच ग्राम पंचायतों के वित्तीय हितों पर हो रहा कुठाराघात

करौली. विभिन्न मांगों को लेकर सरपंच संघ की ब्लॉक शाखा करौली की ओर से सोमवार को मुख्यमंत्री के नाम विकास अधिकारी को ज्ञापन सौंपा गया

By: Dinesh sharma

Published: 11 Jan 2021, 09:03 PM IST

करौली. विभिन्न मांगों को लेकर सरपंच संघ की ब्लॉक शाखा करौली की ओर से सोमवार को मुख्यमंत्री के नाम विकास अधिकारी को ज्ञापन सौंपा गया। ज्ञापन में सरपंचों ने ग्राम पंचायतों के ब्याजरहित पीडी खाते खोलकर संवैधानिक वित्तीय अधिकारों में की जा रही कटौती को रोकने की मांग की है।

साथ ही ज्ञापन में बताया है कि सरकार के दो वर्ष के कार्यकाल में कुछ प्रशासनिक अधिकारियों एवं जनप्रतिनिधियों द्वारा पंचायतीराज संस्थाओं के प्रशासनिक एवं वित्तीय हितों पर कुठाराघात किया जा रहा है।
पंचायतीराज संस्थाओं की वित्तीय हालात बहुत नाजुक हो गई है। गत दो वर्षों में केन्द्रीय वित्त आयोग की राशि के अतिरिक्त राज्य वित्त आयोग की राशि ग्राम पंचायतों को हस्तांतरित नहीं की गई है। राज्य वित्त आयोग पंचम की सिफारिश के अनुसार वर्ष 2019-20 में 4 हजार करोड़ रुपयों में से कुछ भी राशि हस्तानांतरण ग्राम पंचायतों को नहीं की गई है। राज्य वित्त आयोग पंचम की प्रथम किश्त की राशि 1450 करोड़ में से लगभग 364 करोड़ रुपए पंचायत समितियों एवं जिला परिषदों को तो अक्टूबर 2019 में ही हस्तांतरित कर दिए गए हैं, लेकिन ग्राम पंचायत के हक की राशि 1086 करोड़ रूपए ग्राम पंचायतों को हस्तांतरण करने के लिए 30 अक्टूबर 2019 को प्रशासनिक एवं वित्तीय स्वीकृति भी जारी कर दी गई, लेकिन यह राशि भी ग्राम पंचायतों को नहीं मिली है।

राज्य वित्त आयोग पंचम की द्वितीय-तृतीय किश्त की राशि भी नहीं मिली है। इसके अतिरिक्त छठे वित्त आयोग का तो अभी तक गठन ही नहीं किया गया है। ऐसे में 2020-21 में कोई राशि ग्राम पंचायतों को नहीं मिली है। इसके चलते ग्राम पंचायतों के प्रशासनिक व्यवस्था चरमरा रही है। कार्यालय के प्रशासनिक संचालन के साथ जनप्रतिनिधियों व मानदेयकर्मयों का भत्ता भुगतान करने के लिए भी ग्राम पंचायत में राशि उपलब्ध नहीं है।

ज्ञापन में बताया है कि सरपंच संघ की प्रदेश कार्यकारिणी के निर्देशानुसार 13 जनवरी को सभी जिला मुख्यालयों पर जिला कलक्टर, मुख्य कार्यकारी अधिकारी को ज्ञापन सौंपने के साथ विरोध-प्रदर्शन, 21 जनवरी को ग्राम पंचायतों पर सांकेतिक तालाबंदी व विरोध-प्रदर्शन तथा 30 जनवरी को जयपुर में राजस्थान सरपंच संघ की बैठक कर आंदोलन की आगामी रणनीति तय की जाएगी।

इस दौरान सरपंच संघ अध्यक्ष व मांची सरपंच छगनबाई, काशीपुरा सरपंच हरिसिहं बैरवा, हरनगर सरपंच गिलासीदेवी, खूबनगर सरपंच रमेशचन्द मीना, सौरया सरपंच प्रियंका शर्मा, रामपुर धाबाई सरपंच सिरमोहर गुर्जर, लोहर्रा सरपंच राजू जाटव, पतरामपुरा सरपंच वीरेन्द्र सिंह, बरखेड़ा सरपंच सरवती सहित अन्य सरपंच उपस्थित थे।

Dinesh sharma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned