करौली जिले ने इन क्षेत्रों में किया बेहतर कार्य तो मिली तीन करोड़ की राशि

करौली. कृषि एवं जल संरक्षण के क्षेत्र में पिछले महिनों में जिले में बेहतरीन कार्य हुआ है। इसके लिए ना केवल जिले की उच्च स्तर पर प्रशंसा हुई है, बल्कि जिले को प्रोत्साहन बतौर तीन करोड़ रुपए की राशि भी मिली है, जिससे विकास कार्य हो सकेंगे।

By: Dinesh sharma

Published: 12 Feb 2021, 07:19 PM IST

करौली. कृषि एवं जल संरक्षण के क्षेत्र में पिछले महिनों में जिले में बेहतरीन कार्य हुआ है। इसके लिए ना केवल जिले की उच्च स्तर पर प्रशंसा हुई है, बल्कि जिले को प्रोत्साहन बतौर तीन करोड़ रुपए की राशि भी मिली है, जिससे विकास कार्य हो सकेंगे।

गौरतलब है कि करौली जिला देशभर के आशान्वित 112 जिलों में शुमार है। नीति आयोग द्वारा जारी गाइड लाइन के आधार पर जिले में चिकित्सा, स्वास्थ्य एवं पोषण, शिक्षा, कृषि, वित्तीय एवं कौशल विकास क्षेत्र में कार्य किए जा रहे हैं। इनमें नवम्बर-दिसम्बर 2020 में कृषि एवं जल संरक्षण के क्षेत्र में बेहतर कार्य हुआ। इस पर भारत सरकार नीति आयोग के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अमिताभ कांत ने राजस्थान सरकार के मुख्य सचिव निरंजन कुमार आर्य को पत्र लिखा है। जिसमें बेहतरीन कार्यों की प्रसंशा की गई है। साथ ही जिले को 3 करोड़ की अतिरिक्त राशि का भी आवंटन किया है।

यह जिले के केन्द्रीय प्रभारी अधिकारी, जिला कलक्टर सिद्धार्थ सिहाग एवं संबंधित अधिकारियों द्वारा उत्कृष्ट कार्यों के कारण यह संभव हुआ है। कृषि-जल संरक्षण क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य के लिए तीन करोड़ रुपए की राशि मिलने पर जिला कलक्टर सिद्धार्थ सिहाग ने खुशी जताई है। उनका कहना है कि बेहतर कार्य के लिए प्रोत्साहन राशि मिली है। जल्दी ही एक्शन प्लान तैयार कराकर इसका विभिन्न क्षेत्रों में इस राशि का उपयोग किया जाएगा। जिला कलक्टर ने 3 करोड़ रुपए प्राप्त करने के लिए संबंधित अधिकारियों को नीति आयोग द्वारा निर्धारित 49 इंडीकेटर के क्षेत्र में प्रगति के लिए एक्शन प्लान तैयार करने के निर्देश दिए हैं।

यह हुए कार्य
कृषि व जल संरक्षण के क्षेत्र में कृषि विभाग द्वारा संचालित लघु सिंचाई योजना जैसे फब्बारा पद्धति, ड्रिप सिंचाई, फार्मपौण्ड , पॉली हाउस, फलों की बागवानी, फसल बीमा योजना, कृषि ऋण, जल संरक्षण के लिए मनरेगा योजनान्तर्गत बनाए गए एनीकट, परम्परागत तालाबों का जीर्णोद्धार, पशुपालन विभाग द्वारा पशुओं का टीकाकरण, कृत्रिम गर्भाधान एवं मृदा जांच के क्षेत्र में बेहतर कार्य किए गए।

पहले चिकित्सा क्षेत्र में मिले थे तीन करोड़
इससे पहले जिले को चिकित्सा क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य के लिए तीन करोड़ रुपए की अतिरिक्त राशि का आवंटन हुआ था। जिला कलक्टर ने बताया कि अक्टूबर 2019 में जिले द्वारा चिकित्सा एवं पोषण क्षेत्र में किए गए बेहतर कार्य के लिए भी 3 करोड की अतिरिक्त आवंटन किया गया था। यह राशि चिकित्सा क्षेत्र के साथ शिक्षा विभाग, आंगनबाड़ी केन्द्रों में सुविधाएं आदि के उपयोग में ली जा रही है।

Dinesh sharma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned