दशकों बाद एक्स-रे की खातिर अब रोगियों की भाग-दौड़ होगी खत्म

करौली. जिला मुख्यालय स्थित जिला उप क्षय रोग निवारण केन्द्र पर दशकों बाद रोगियों को एक्स-रे मशीन की सुविधा मिल सकेगी।

By: Dinesh sharma

Published: 15 Jun 2021, 06:03 PM IST

करौली. जिला मुख्यालय स्थित जिला उप क्षय रोग निवारण केन्द्र पर दशकों बाद रोगियों को एक्स-रे मशीन की सुविधा मिल सकेगी। उप क्षय रोग निवारण केन्द्र के लिए एक्स-रे मशीन उपलब्ध हो गई है। इससे क्षय रोगियों व सिलिकोसिस जांच के लिए रोगियों को एक्स-रे कराने की खातिर सामान्य चिकित्सालय तक की भाग-दौड़ खत्म होगी। पिछले दिनों केन्द्र के लिए एक्स-रे मशीन आने के बाद कम्पनी की ओर से इंस्टालेशन आदि की प्रक्रिया पूरी कर दी गई है। उम्मीद है कि जल्द ही मशीन को शुरू कर केन्द्र पर ही रोगियों के एक्स-रे की सुविधा शुरू हो जाएगी।

गौरतलब है कि दशकों से यहां संचालित हो रहे उप क्षय रोग निवारण केन्द्र पर अभी तक एक्स-रे की सुविधा उपलब्ध नहीं थी, जबकि क्षय रोगियों व सिलिकोसिस जांच के लिए एक्सरे जरुरी है। ऐसे में रोगियों को एक्सरे के लिए सामान्य चिकित्सालय पहुंचकर एक्सरा कराने पड़ते हैं, जहां उन्हें इंतजार करना पड़ता। वहीं उसी एक्सरे मशीन पर सामान्य चिकित्सालय में आने वाले रोगियों के भी एक्सरे किए जाते हैं। इस बारे में जब जिला कलक्टर सिद्धार्थ सिहाग को पता चला तो उन्होंने एक्स-रे मशीन के लिए प्रयास किए।

रोगियों को करना पड़ता इंतजार
उप क्षय रोग निवारण केन्द्र के सूत्र बताते हैं कि प्रतिदिन औसतन 10 से 15 रोगियों के एक्स-रे कराए जाते हैं, जिन्हें एक्सरे के लिए सामान्य चिकित्सालय भेजा जाता है, लेकिन वहां पर चिकित्सालय के अन्य रोगियों के भी एक्स-रे होते हैं, ऐसे में समय लगता है। क्षय रोग जांच के अलावा सिलिकोसिस पीडि़तों के भी एक्स-रे कराए जाते हैं, जिनके एक्सरे भी सामान्य चिकित्सालय में होते हैं। केन्द्र की ओर से प्रति सप्ताह शिविर लगाया जाता है, जिसमें भी करीब 70 से 80 रोगियों के एक्सरे कराए जाते हैं।

चूंकि सामान्य चिकित्सालय में आने वाले रोगियों के भी प्रतिदिन एक्स-रे होते हैं। ऐसे में उप क्षय रोग निवारण केन्द्र से एक्सरे के लिए भेजे जाने वाले रोगियों को इंतजार करना मजबूरी होती है। वहीं एक ही जगह एक्सरा होने से दबाव भी रहता था, लेकिन अब इस समस्या से छुटकारा मिल सकेगा। गौरतलब है कि सामान्य चिकित्सालय में प्रतिदिन 125 से 150 तक एक्सरे हो जाते हैं। ऐसे में उपक्षय रोग निवारण केन्द्र से एक्स-रे के लिए भेजे जाने वाले रोगियों को इंतजार करना पड़ता है।

अब रेडियोग्राफर की दरकार
एक्स-रे मशीन का इंस्टोलेशन होने के बाद कक्ष में बिजली फिटिंग हो चुकी है। अब रेडियोग्राफर आने के बाद मशीन शुरू हो जाएगी। एक्सरे मशीन आने से रोगियों को फायदा मिलेगा। उम्मीद है कि इसी माह रोगियों को एक्स-रे मशीन की सुविधा केन्द्र पर ही मिल सकेगी।

इनका कहना है....
जिला कलक्टर के प्रयासों से उप क्षय रोग निवारण केन्द्र के लिए एक्स-रे मशीन उपलब्ध हो गई है। बिजली फिटिंग करा दी गई है। रेडियोग्राफर की नियुक्ति होनी है। शीघ्र मशीन को शुरू किया जाएगा। इससे क्षय रोग जांच के अलावा सिलिकोसिस पीडि़तों के एक्स-रे केन्द्र पर ही होन से उन्हें राहत मिलेगी। अभी तक रोगियों के एक्सरे सामान्य चिकित्सालय में कराए जाते हैं।
डॉ. विजयसिंह मीना, जिला क्षय रोग निवारण अधिकारी, करौली

Dinesh sharma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned